अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

कवि की अभिलाषा

चाहता हूँ कुछ ऐसा 
करके जाऊँ इस जहां से,
जब चला जाऊँ यहाँ से 
तब लोग हमेशा याद करें,
मुझे नहीं बल्कि मेरी उपलब्धियों को 
जिन्हें मैं उन्मुक्त मन, उन्मुक्त हाथों से 
लुटाता जा रहा हूँ, 
जिससे मैं लोगों के लबों पर 
गीत बनकर आ रहा हूँ॥


है छोटी सी तमन्ना,
इस जहां को आग़ोश में 
अपने मैं भर लूँ,
इस ज़मीं को स्वर्ग कर दूँ,
ख़ुशियाँ असीमित इसमें भर दूँ,
अगर क़िस्मत साथ दे तो 
कर्म के दम पर मैं अपने 
वक़्त को भी बाँध लाऊँ,
इस धरा को रंगीन कर दूँ 
चाँद–तारों से सजाऊँ॥


जोश है, उन्माद है और 
जीत का उत्साह भी है 
सब कुछ है मुझमें चाहिए जो 
जीत का विश्वास भी है,
लक्ष्य माना, है बड़ा पर 
साक्षी इतिहास भी है,
कह रहा जो चीख़कर
"कर्म पर विश्वास कर तू, 
मन से हार न मानना 
मुश्किलों से हार कर तू॥“ 


जोश इतना 
बाधा की चट्टान को मैं चूर कर दूँ 
कष्ट झुग्गी–बस्तियों का दूर कर दूँ,
बन भागीरथ ख़ुशियों की मदमस्त सी 
लहराती गंगा फिर से मैं लाऊँ,
पाप से कलुषित- मलीन धरती को 
विमल फिर से मैं बनाऊँ,
श्वास जब तक भी मेरी चलेगी 
लड़ता रहूँगा भाग्य से मैं 
धड़कनें जब तलक धक-धक कहेंगी॥


तय इसीलिए मैंने किया है 
तन भले ही हार जाए 
मन मेरा हार न मानेगा,
जब तक मुझमें बहता है गर्म लहू 
कर्तव्यों को पहचानेगा,
अपने दम पर हर यत्न करूँगा 
दुनिया को स्वर्ग बनाने की,
जो कुछ पीढ़ी है भुला चुकी 
उसको फिर से लौटने की,
है कवि की यही अंतिम अभिलाषा 
मैं जाऊँ जब इस धरती से 
तैयारी हो एक परिवर्तन की,
जो भी कलुषित धरती पर हैं 
तैयारी हो निष्कासन की,
जब कभी यहाँ मैं फिर आऊँ 
इसको तब मैं उन्नत पाऊँ,
तब रुदन कहीं न सुन पड़े मुझे,
जब जाऊँ धरा को सौंप तुझे॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं