अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

लाशों का शहर बन बैठा है, आज हर एक शहर

लाशों का शहर बन बैठा है, आज हर एक शहर।
बहते हुए देखा है ये सब ने, पा कर गंगा में लहर।
 
क्या हुआ है मेरे शहर को, ये कैसी क़यामत आई।
ख़ुदा दूर करे अपने रहम से, ये जो है आफ़त आई।
 
कुछ पता न चले ये मौत, कब यह किसको निगले।
अब तो ये दौर है आया, कि जनाज़ा भी न निकले।
 
हर तरफ़ डर ही डर है, वायरस ने सताया है बहुत।
वैश्विक महामारी है ये,  कोरोना ने रुलाया है बहुत।
 
किसी के माँ ने किसी के, पिता ने ये दुनिया छोड़ी।
किसी के पति ने किसी की,  पत्नी ने दुनिया छोड़ी।
 
किसी के भाई ने किसी की, बहन ने जहां छोड़ा है।
किसी के बेटे ने किसी के, बेटी ने ये जहां छोड़ा है।
 
किसी को चिता मिली, किसी को वो भी न नसीब।
किसी को दफ़न किया, किसी को कफ़न न नसीब।
 
कितना बुरा समय है ये आया, परेशां अमीर ग़रीब।
विद्युत से शवदाह कहीं, गंगा जी में प्रवाहित ग़रीब।
 
कहीं-2 तो किसी का पूरा, परिवार ही है चल बसा।
कैसा मंज़र है आँखों को, जो ये भी देखना है पड़ा।
 
अब तो रुक जाये क़यामत ये, अब सहा नहीं जाये।
कुछ समझ में नहीं आता है, ऐसे में रहा कैसे जाये।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

1984 का पंजाब
|

शाम ढले अक्सर ज़ुल्म के साये को छत से उतरते…

 हम उठे तो जग उठा
|

हम उठे तो जग उठा, सो गए तो रात है, लगता…

अच्छा लगा
|

तेरा ज़िंदगी में आना, अच्छा लगा  हँसना,…

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं
|

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं, अच्छा…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

नज़्म

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं