अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

लौटते हैं अपने युवा दिनों की तरफ़

चलो एक खेल खेलते हैं 
लौटते हैं अपने युवा दिनों की तरफ़
और चकमा देने वाली चीज़ों को इकठ्ठा करते हैं
इस तरह कि उन्हें अपने होने पर 
शर्म से लाल न होना पड़े


नापते हैं हॉस्टल से तुम्हारे घर की दूरी
और सड़क को क़तई पता नहीं लगने देते हैं कि हम
उसकी स्मृतियों में सूरज के नखरे और 
चन्द्रमा के पैरों की आहट
इस तरह रख रहे हैं कि 
कोई निशान तक दिखाई न दे
सपनों के चहलक़दमी करने की


यूँ ही नाखूनों को कुतरने वाली आदत
और ग़ुस्से में होठों को 
काटने का तुम्हारा सलीक़ा
या यूँ ही कॉपियों के -
पन्ने फाड़ने की तुम्हारी अकबकाहट
बेवज़ह आकाश से बतियाने की सनक
सब कुछ पुनः दुहराते हैं
जैसे वे पहली बार घटित हो रहीं हैं 
हमारे जीवन में जो अब
सयानेपन की सज़ा भुगत रही हैं


वह मुलायम सी सिहरन जो -
अब खुरदरी हो गयी है
दुख और सुख को माँजते माँजते
अपनी अँगुलियों में पुनः 
आविष्कृत करते हैं किसी बच्चे के
पहले आविष्कार की ख़ुशी की तरह
तुम्हारे पेट की त्वचा से मिलान करते हुए 
गुलाब की दहकती ख़ुशबू में
ढूँढ़ते हैं वह अल्हड़ता जो 
रुमानी कविता की आत्मा है
बर्दाश्त करते हैं 
ऐसी ही की गयी ऊल जुलूल हरकतें
गुलशन नन्दा और रानू के उपन्यास 
जो प्रेमचन्द से कहीं ज़्यादा अच्छे लगते थे
पुनः पढ़ते हैं अपनी मूर्खता को
जायज़ ठहराने के लिये


चलो एक खेल खेलते हैं लौटते हैं 
अपने युवा दिनों की तरफ़
डायरी के पन्नों में लिखी गयीं वो 
रुमानी इबारतें जो बड़ी मुश्किल से इकठ्ठा
की थीं हमने और जिसे दुहराते थे 
स्कूल में की गयी प्रार्थना की तरह
उन हरफ़ों में लगी धूल को झाड़ते हैं
वे इबारतें जो हमारी अँगुलियों की 
काली पड़ती झुर्रियों की स्मृतियों में
अब भी जीवित हैं
चस्पा करते हैं अपनी इन्द्रियों के दरवाज़े पर
शायद वो पेड़ फिर फेंकने लगे 
खपच्चियाँ जिसे हमने युवा दिनों में लगाया था
अपने मोहब्बत की निगरानी करने के लिये


शमशाद बेगम जैसी आवाज़ की -
खनक वाले मौसम में, उसके उत्सव में
चलो चकमा देने वाली चीज़ों को पुनः इकठ्ठा करते हैं
अपने आस पास को शर्म से लाल करने के लिये

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं