अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

ओस्लो में 20 नवम्बर

नार्वे में 20 नवम्बर
शीत लहर और बरफ़बारी
रोक न सकी जुलूस में
सैंकड़ो हाथों में जल उठी मशालें
नाज़ीवाद-नसलवाद को दुनिया के
सभी देशों की गलियों में
समाप्त करने की तैयारी।


नयी पीढ़ी की त्योरियाँ लगी
आश्वस्त और प्रौढ़,
तने हुए सीनों पर जोश
नाज़ीवाद-नसलवाद के विरुद्ध
सेन्ट्रल रेलवे स्टेशन से
पार्लियामेन्ट के सामने तक
कारवाँ चल पड़ा
मेरे मन में हलचलें उठी अनेक
काश यह रुके नहीं
पहुँचे यह विश्व के हर नगर और ग्राम
सुबह शाम मानवता पर चिन्तन
वासुदेव कुटुम्भकम
फैल जाये हवा में
पहुँचे जन-जन की साँस में
मानवतावाद हो धर्म की मशाल
भूखे को भरपेट भोजन
बीमार असहाय को दवा
दुआओं का कैसे करें भरोसा
धर्म के नाम पर छले गये बहुत
धर्म के नाम पर भावनायें भड़कायी गयीं
धर्म के नाम पर हो रहे हैं युद्ध
पढ़ने के लिए बहुत है मानवता की पोथी
भेदभाव नहीं चाहिये।
नहीं चाहिये चारदीवारी की गुलामी
स्त्री-पुरुष और गरीब-अमीर सब करें
एक साथ भोजन
मिलकर बाटें भारत के दर्द
विश्व के दर्द स्वत: मिट जायेंगे
गर मिलकर अलाव हम जलायेंगे
आँखों में बँधी
ऊँच-नीच भेदभाव की पट्टी हटायेंगे।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं