अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

प्रार्थना आए सद्बुद्धि

संन्यासी "साधु",
है देश का जादू।


संस्कृत का शब्द,
तन में जैसे रक्त।


तप की मिसाल,
संस्कृति की ढाल।


त्याग का जीवन,
सम हरदम है मन।


सामान्य अर्थ 'सज्जन व्यक्ति',
ईश्वर की अनथक भक्ति।


मूल उद्देश्य मार्गदर्शन,
समाज का पथप्रदर्शन।


धर्म का चले मार्ग,
बिल्कुल बेदाग़।


मोक्ष करता है प्राप्त,
आनंद आध्यात्म।


साधना वरदान,
जग को दे ज्ञान।


हुई निर्मम थी हत्या,
मानवता शर्मिंदा।


उनका बलिदान,
सब आहत परेशान।


हिन्द हुआ कलंकित,
दहशत व चिंतित।


अमानवीय दुष्कृत्य,
बर्बर व निंदनीय।


महाराष्ट्र का पालघर,
साधुओं की हत्या वध।


ग़ुस्से की लहर,
अमृत में ज़हर।


भीड़तंत्र षड्यंत्र,
हैरान न्यायतंत्र।


निहत्थे वृद्ध साधु,
भीड़ हुई बेक़ाबू।


बेरहमी से हमला,
दर्पण हुआ धुँधला।


हुई मॉब लिंचिंग,
आती है घिन्न।


कारण अफ़वाह,
शैतान दुष्ट राह।


लाठी डंडों से वार,
काँपा घर बार।


मच गया हड़कंप,
देश सुन्न व दंग।


अपराधी की क्या सोच?
एक पल भी ना संकोच !


दोषियों के ख़िलाफ़,
कठोर दंड इंसाफ़।


कहाँ गए संस्कार?
रिश्ते बंजर बेकार।


पशुवत क्रूर दृश्य,
कहाँ गुरु शिष्य?


पत्थर हुए दिल,
गया मैं हूँ हिल।


दिया झकझोर,
ये कैसा दौर?


दुर्भाग्य की बात,
नम हैं जज़्बात।


क्रूरता की हद,
हूँ मैं निःशब्द।


आए दिलों में शुद्धि,
प्रार्थना आए सद्बुद्धि,

 

प्रार्थना आए सद्बुद्धि।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं