अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

प्रस्थान 

निकल चुका हूँ
चल चुका हूँ
एक अनजान सफ़र पर
उन संघर्षों के पथ पर
जिनसे तुम डरते हो
घुट घुट के जिया करते हो
पर मुझे डर नहीं 
नहीं कोई चिंता किसी अंजाम की
अब आगे बढ़ चुका हूँ मैं
हाँ! मैं प्रस्थान कर चुका हूँ


दुनिया का मिथ्या बंधन न सहा जाएगा
अब तो सिर्फ़ सच ही कहा जाएगा
न ही सह सकता हूँ तुम्हारी ये दुनिया
जो खोखली सिद्धांतों की मढ़ है
अब तो बस चल पड़ा हूँ
अविचलित आगे में बढ़ चला हूँ 
संघर्षों के पथ पर 
हाँ! मैं प्रस्थान कर चुका हूँ


तुम्हारा कोई ईमान नहीं 
न ही कोई धर्म है
तुम्हारा तो बस
पैसा ही एक कर्म है
जिसके तुम आदी हो चुके
जिसके तुम गुलाम बने हुए हो
पर मैं न बँध पाऊँगा
न ये रीत अब और सह पाऊँगा
क्योंकि तोड़के ज़ंजीरों को आगे बढ़ चला हूँ
हाँ! मैं प्रस्थान कर चुका हूँ

 

मैं गूँगा नहीं हूँ
की आवाज़ न उठाऊँ
न ही मैं अंधा 
की अन्याय देख न पाऊँ
न ही मैं बहरा हुआ
कि न सुन पाऊँ वो दर्द भरी पुकार
जो फूटती है किसान, मज़दूर, ग़रीबों के कंठ से!
मैं बोलूँगा उन सबके ख़िलाफ़
जो कर रहे हैं अत्याचार इनपर
भले ही ख़िलाफ़ हों मेरे अपने भी अगर
पर अब न सहा जाएगा 
क्योंकि अब मैं बढ़ चुका हूँ
हाँ! मैं प्रस्थान कर चुका हूँ


मैं फूल नहीं 
न ही धूल हूँ
मैं एक आँधी हूँ
मैं ख़ुद में क्रांति हूँ
सालों से सुलग रही चिंगारी था
अब मैं ज्वाला बन चुका हूँ
एक प्रचंड लावा बन चुका हूँ
अब कोई रोक नहीं सकता मुझे
अब मैं बढ़ चुका हूँ
हाँ! मैं प्रस्थान कर चुका हूँ

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

कविता

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं