अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

प्रेमहंता 

मैं आज भी तुमको दोषी मानता हूँ
ठीक वैसे ही जैसे तुम मुझे समझती हो
वंचक ....परपीड़क ....प्रेमहन्ता


रिसीवर पर परवान चढ़ता प्रेम
किशोर उम्र के साथ बढ़ता गया
बढ़ते गए हमारे हौंसले
बढ़ती रही हमारी जीने की ललक
और साथ ही साथ बात बढ़ती गयी
बात बढ़ती गयी ढलती रात के साथ


सुहानी सुबह दहकती दोपहर ख़ुशनुमा शाम
यूँ आती थी और चली जाती थी
मगर बातें थीं कि चलती रहतीं थीं अनवरत 
बेसिरपैर की बेतरतीब बेजा बातें
सरगम के सात सुरों का रस घोलती थीं

रेंगती ज़िन्दगी को तुमने दौड़ना सिखाया
मुझे याद है जब पराजित मन 
हताश होकर बैठने लगता था
मुरझाये फूलों की तरह झरने लगता था विश्वास
तब कानों में दिव्य मन्त्र सा फूँकते हुए
तुम्हारा ’यू कैन डू इट’ कहना
मन की क्यारियों को हरा कर जाता था


दोस्ती के शकुन का पहला पीत पुष्प 
स्नेहसिक्त होकर सुर्ख होता गया
और फिर सूख गया मुरझाकर 
हम अलग हो गए अपने अपने रास्तों के साथ
शायद अलग होना ही हमारी नियति थी


तुम नहीं हो तुम कहीं नहीं हो
नहीं ही हो कहीं नहीं हो
पर वह कौन है मेरे साथ
जो काली परछाहीं बनकर बेचैन रखता है मुझे
वह आवाज़ किसकी है
जो रात की तन्हाइयों में सोने नहीं देती
कभी मुँह चिढ़ाते कभी ढाढ़स बँधाते
कभी उम्मीद जगाते कभी प्रेरणा बनते
जीवन की दिशा बदलने वाले तुम्हारे शब्द
मेरी गाँठ में बँधे हैं आजतक
वेलेंटाइन का उपहार समझकर
मैंने सँभालकर रखे हैं वह तीन शब्द -
’आई लव सर्विसमैन’

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं