अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

राजनीति (चुम्मन प्रसाद)

[ 1 ]

सन् 1975
एक गुड़िया
एकाएक जादूगरनी 
बन गई थी,
और 
अपने काले जादू से 
ढक लिया था
पूरे देश को
उस स्याह अँधेरे में 
सब कुछ उसके इशारे पर 
होता था।
सभी  डरे-सहमे
चुपचाप जीवन की गाड़ी
खींचने को थे 
मजबूर और विवश।
कि तभी
चाणक्य, चंद्रगुप्त और अशोक की
धरती से 
एक बूढ़े ने हुंकार भरी थी
और
उसके पीछे-पीछे
उमड़ पड़ा था जन सैलाब 
हाथ में जनशक्ति का मशाल लिए।
जादूगरनी के जादुई तिलिस्म 
का क़िला ढह गया था
जनशक्ति के आगे;
और लोकतंत्र की प्रभा 
फिर से जगमगाने लगी थी।

 

 [ 2 ]
लेकिन आज परिदृश्य
इस क़दर बदल गया है,
कि,
राजनीति में ही
अपना जीवन होम करने वाले,
वयोवृद्ध आज,
हाशिये पर ढकेल दिए गए हैं।
अपनी कातर निगाहों से 
सत्ता सुंदरी को 
देखते हैं,
और,
मन मसोस कर 
याद करते हैं
अपने स्वर्णिम दिनों को;
लेकिन,
दंतहीन -विषहीन उरग की भाँति 
न तनकर खड़े हो सकते हैं
और न,
उठा सकते हैं
प्रतिरोध का स्वर।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

शोध निबन्ध

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं