अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

राष्ट्र पथ

होकर अडिग, निश्छल सदा, 
बढ़ते रहो राष्ट्र पथ पर
चाहे अर्पण हो तन मन धन, 
पर रुकना ना कभी घबराकर


राष्ट्र पथ कठिनाइयों का होगा अवश्य, 
यह ठान लो मन में
कुछ दुश्मन सीमाओं पर होंगे, 
कुछ जयचंद होंगे अगल बगल में 
विभाजन, विखंडन, मतांतरण पर 
होगा आतुर विपक्ष सारा और 
इतिहास झुकाने में लगा होगा 
बुद्धिजीवियों का तंत्र न्यारा 


तब यह याद रख कर 
निडर बनना और गर्व करना कि
विरोधी ताक़्तों से पवित्र है राष्ट्रीयता अपनी 
वीरों के बलिदान से सुसज्जित है संस्कृति अपनी 
महज़बी नफ़रत से ऊँची, 
अपनी "सर्व पंथ सम्भाव" की धारा 
"वसुधेव कुटुंबकम" तो अपना ही 
विश्व को सन्देश है प्यारा 


अब ना डगमगाएँ राष्ट्र पथ पर अपने क़दम ज़रा भी 
इस विश्वास को सुदृढ़ करने के लिए यह प्रण लें अभी


कि अपने ही जीवन काल में 
भारत की अखंडता साकार करेंगे
ना लड़ाई, ना क़त्लेआम, 
मात्र सत्य का व्याख्यान करेंगे 
मज़हब के नाम पर 
विभाजन हुए होंगे कभी किसी काल में
वैभव फैला था ईरान से म्यांमार, 
हम उस काल का गुणगान करेंगे


“राष्ट्र अखंड, राष्ट्रीयता प्रथम, 
राष्ट्र ही जीवन, राष्ट्र ही धर्म, 
सात्विक, सत्य सनातन, 
उस राष्ट्र पथ पर मिलकर चलें हम”
अब बस यही होगा हर दिल में नारा, 
यही भाव गूँजेगा -
हर शहर, ग्राम, नुक्कड़, गलियारा”

मित्रो, याद रखना कि 
होकर अडिग निश्छल सदा, 
बढ़ते रहो राष्ट्र पथ पर
चाहे अर्पण हो तन मन धन, 
पर रुकना ना कभी घबराकर

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं