अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

सर्दी की वो शाम

सर्दी की वो शाम, जब हम सभी भाई-बहन खेल रहे थे। हम नानी के घर गए हुए थे। सर्दी का मौसम था। एक तो कड़कड़ाती ठंड और ऊपर से बरसात मौसम को ठंडक प्रदान कर रही थी। हम सबको ठंडी लग रही थी। हम सभी भाई-बहन नानी से ज़िद करने लगे, "नानी आग जला दो, बहुत ठंडक लग रही है। नानी ने पहले तो मना किया लेकिन जब हम सभी ज़्यादा ज़िद करने लगे तो नानी मान गई। नानी के लिए सबसे बड़ी दुविधा थी आग कहाँ जलाए? काफ़ी सोचने के बाद नानी ने, जहाँ पशुओं को बाँधा जाता था, वहाँ आग जलाने के लिए चुना। लेकिन यह क्या? वहाँ तो छप्पर भी नहीं है, अब आग कैसे जलाएँ? नानी ने प्लास्टिक की तिरपाल से छप्पर बनाकर आग जला दी। अब हम सभी भाई-बहन बहुत ही ख़ुश थे। हम सभी ख़ुशी-ख़ुशी आग के चारों और अपने-अपने हाथ निकाल कर बैठ गए। हमें काफ़ी मज़ा आ रहा था। हम सभी चहक-चहक कर एक-दूसरे से बातें करते हुए मौसम का आनंद ले रहे थे। 

उस आग के पास थोड़ी सी ऊँची एक जगह थी। जो दो दीवारों के बीच में थी और मैं उस ऊँचे स्थान पर बैठी आग को सेक रही थी। मैं अपनी छोटी बहन को सबसे ज़्यादा प्यार करती थी। हम सभी आग सेकने का आनंद ले ही रहे थे कि अचानक से एक घटना घटी और हमारी सारी ख़ुशी कुछ ही पल में क्षणभंगुर हो गई। हम सभी एक खेल खेल रहे थे, जिसमें शर्त के अनुसार जिसे मैं सबसे ज़्यादा प्यार करती थी, उसे ऊँचे स्थान पर बैठना था। लेकिन जगह बदलते समय दोनों दीवारों से धक्का लगने के कारण मेरी छोटी बहन के दोनों हाथ आग के बीच में पड़ गए और जल गए। वह चिल्लाए जा रही थी और हम सब मार खाने के डर से सहमे हुए नानी के पास गए। जल्दी-जल्दी उसे मामा जी डॉक्टर के पास ले गए और हम सभी भाई-बहन कंबल ओढ़ कर लेटे रो रहे थे। हम काफ़ी डरे हुए थे; एक तो मार खाने का डर और दूसरी तरफ छोटी बहन के हाथ अगर कट गए तो क्या होगा? यह सोचकर हम लोग रोए जा रहे थे, पर जब छोटी बहन डॉक्टर के पास से आई तो वह ठीक थी। डॉक्टर ने उसे मरहम लगाने के लिए दी थी और बोला था इसको लगाने से वह धीरे-धीरे ठीक हो जाएगी। 

हम मार से बच गए नानी ने हमें डाँट कर छोड़ दिया। हम सभी भाई बहनों ने प्रतिज्ञा की कि अब कभी ऐसी ज़िद नहीं करेंगे और ऐसा खेल नहीं खेलेंगे। उस अतीत को बीते काफ़ी समय हो गया, पर जब भी उस पल को याद करते हैं तो, चेहरे पर हँसी आ जाती है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अनोखा विवाह
|

नीरजा और महेश चंद्र द्विवेदी की सगाई की…

अनोखे और मज़ेदार संस्मरण
|

यदि हम आँख-कान खोल के रखें, तो पायेंगे कि…

अपराध बोध (डॉ. पद्मावती)
|

बात उन दिनों की है, संघ लोक सेवा आयोग की…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कहानी

लघुकथा

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं