अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

स्कूल की अंतिम घंटी

अब नहीं बजती,
यह तब था जब,
प्रार्थना के स्वरों का आरोह,
विस्तार होते अवरोह लेता था,
और सूरज-
कंधे की ऊँचाई से चढ़,
दूसरे कंधे से उतरना चाहता था,
अंतिम घंटी में होती थी एक हलचल-
खड़बड़-खिड़किट्,
बस्ते मे प्रवेश लेना,
कॉपी, किताब और पेंसिल-क़लम का।
और ज्यामिति एक बक्से में बंद हो जाती।
इस अंतिम घंटी में थी गड्डमड्ड की सरलता,
आज़ादी की तरलता में लिपटी,
इतिहास घुटने के बल बच्चे की तरह चलता,
अकबर,बाबर का पिता और,
तुलसीदास की ग़लतियों पर,
कबीरदास को पड़ती डाँट,
सदियों से अक्ष पर झुकी धरती,
सीधी हो जाती,
और गति के नियम तीन से कहीं अधिक होते,
क्यूँकि उस कमरे में थे कई दरवाज़े,
इस अंतिम घंटी में,
कोई ग़लत सही नहीं था और न कोई सही ग़लत-
इसमें लिखी जाती उल्लास,
हर्ष और आनंद की प्रस्तावना,
और मन को तथ्यों का 
कूड़ाघर बनने से रोक लिया जाता,
घर लौटने का व्याकरण 
सब गलतियाँ देता सुधार,
ठंडे दाल-भात साग की तरावट,
तर देती की-
बुढ़िया कबड्डी,  और घोघोरानी वहीं मिलते,
जहाँ पिछले शाम छोड़ा था,
पहली घंटी से बढ़ती घंटियाँ गुरूगंभीर है,
गिने जा सकते हैं इनके क़दम,
तौले जा सकते हैं वज़न,
अंतिम घंटी-
भागते घोड़े की सरपट.पिजड़े का खुला दरवाज़ा,
अराजक होकर भी मुक्ति का एक आश्वासन,
अब नहीं बजती अंतिम घंटी,
मशीन देख सब मशीन उठ जाते हैं,
उदासी और मौन के अपने-अपने बिलों में समा जाते हैं।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं