अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

शांत रुदन

कौन रो रहा है 
दुखी है कौन यह पूछना 
नासमझी है शायद 
रोते आ रहे हैं हम 
प्राचीन काल से 
और रुलाते आ रहे हैं 
एक दूसरे को 
पर हमें पता नहीं कि
हमीं रोने वाले हैं  और 
रुलाने वाले भी।

 

महाभारत हुआ 
कुछ बचा ही नहीं 
सिवाय रुदन के 
उसमें हमीं रोये थे 
थर्रा गई थी पृथ्वी 
और प्रकृति भी उस समय 
कर्णभेदक चीख से।

 

हर युग से आई 
अवाज़ें रोने की
आज भी आ रही है 
किधर से पता नहीं!
चारों ओर से! हाँ 
चारों ओर से।
रोने की ही आवाज़ तो है 
कौन रो रहा है? 
पता नहीं।
शायद इसलिए पता नहीं कि
गूँज रही है सबके अन्दर 
वह आवाज़ 
और दिखावा करते हैं 
ऊपर से।

 

पहचान में नहीं आती अवाज़ें 
रो रहा है हर कोई पर 
लगे हैं रुलाने में सभी 
एक दूसरे को।

 

कब बंद होगी ये रुलाई 
पर बंद होने क़ी आशा 
नहीं है कोई।
जब नहीं बंद हुई 
रामराज्य में 
और चीखी थी 
कृष्ण काल में 
सुर-असुरों के राज्य में भी 
रही यथावत।

 

पर आज, आज तो 
शुद्ध मानव राज्य है 
और कोई आश्चर्य नहीं कि
बढ़ती जा रही हैं 
रोने की आवाज़ें 
अब चीख में 
बदलती जा रही हैं।

 

अरे यह क्या!
अचानक बंद हो गई 
कहाँ गए सब आँसू आँखों के ?
सूख गए!
आवाज़ें निःशब्द हो गईं 
पर ऐसा हुआ क्यों 
रो तो रहें हैं लोग 
अभी भी पर 
आँसू  नहीं, अवाज़ें नहीं 
शायद नियति बन गई है 
रोना!
रोने की चरमावस्था 
एक हिस्सा बन गया है 
जीवन का 
दैनिक कार्यों और ज़रूरतों जैसे।
समय नहीं है 
आँसू बहाने का 
और न अवाज़ें निकालने का 
रो रहे हैं, काम किए जा रहे हैं 
बस आँसू नहीं है,
अवाज़ें नहीं हैं।
भयानक होता है 
आँसू और 
रोने  की अवाज़ें निकालना  
पर उससे भी भयानक है 
आँसू रहित शांत रुदन!
यह शांत रुदन ............!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं