अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

टूटन

चाय की यह प्याली,
सुबह का सूरज है,
बाज़ दफ़े जब सूरज होता है असहाय,
बादल, बूँद और कोहरे में
इससे उठता धुआँ सबेरा होता है,
जिसमें हैं गर्म बुलबुले,
और छुपी कोई आँधी,
कप पर लिखा नहीं है कोई नाम,
पर उठते समय हर बार,
लिख जाता है मेरा नाम,
जीवन के प्रथम चुंबन की तरह,
जिसपर हर सुबह क़लम दुहराना है,
ओवर राईटिंग की रस्सी पर चलते हुये,
शर्तिया इससे मायना नहीं बदलता,
पर वो सिहरन दुबकती है हर दिन,
मालूम है कि टूटा था हैंडल एक बार,
जो फेविक्विक के आश्वासन पर रुका है,
ग़ौर से न देखो तो यह अब भी मेरा है,
इसके अंदर की मिट्टी दरकी है,
जैसे दरकती हैं मिट्टियाँ बिना बोले,
चाहे चीनी की हो या सीता की,
यह दरकन सो रही है निश्चिंत,
एक मूल से उखड़े बाल की तरह,
दरकन, चिलकन, छलकन,
तब नुमायां होते हैं,
जब हम तूफ़ां नहीं होते,
और ताकते हैं आकाश को,
एक थिर तालाब की तरह,
उस रात-आधे कप पानी में,
होमियोपैथी की कुछ रंगहीन बूँदें-
डालते वक़्त, दिखी थी पहली बार,
वह एक काले बाल सी दरकन,
जिसे कोई शिकायत नहीं थी,
माँ के आँचल की तरह -
थाम लिया था उसका आश्वासन पर टिका हैंडल,
धुआँ, आँधी, कुनकुनापन,
कहीं नहीं था कप में,
प्रेमिका, पत्नी के चौखटों को पार कर,
वह मेरी माँ सी हो रही थी!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं