अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

विस्मरण

बहुत कुछ भूलता जा रहा हूँ जीवन में

 

अट्ठारह की उम्र में मिला वह दोस्त 
उसका नाम क्या था
हालाँकि जहाँ तक याद है 
हमने आजीवन मित्रता निभाने की 
क़सम खायी थी

 

इतना याद है कि 
उस समय भूकम्प का झटका 
ज़ोर से लगा था
जब वह लड़की 
गोद में गिर गयी थी
उसने किस रंग के कपड़े 
पहने थे उस समय
उस लड़की का नाम 
क से शुरू होता था या प से
या किसी अन्य अक्षर से

 

अस्पताल में 
शतरंज खेलते समय 
डाक्टर दास ने अपने छाते से
समस्त गोटियाँ 
बिखरा दी थीं पूरे वार्ड में कि 
मेरा बुखार उतर नहीं रहा था
डाक्टर दास का पूरा नाम क्या था 
और उस समय ठीक ठीक
क्या थी मेरी उम्र

 

बहुत कुछ फिसल रहा है 
स्मृतियों से जैसे 
निराला की तमाम कविताओं
के बीच के अंश 
जो कभी पूरा याद थे
सोलह की उम्र में पढ़ा 
उपन्यास और उसके पात्र
वे प्रेम पत्र -
उनमें किसके शेर 
उद्धृत किये थे मैंने और
वे प्रेम के उद्धरण वाली पुस्तिका
सड़क पर बिकने वाली 
किस दुकान से ख़रीदा था उसे

 

उस गली का नाम 
याद करने की कोशिश करता हूँ
जिसमें पहली बार खाया था पान
पान वाले का चेहरा 
उकेरने की कोशिश करता हूँ
और झुँझला पड़ता हूँ

 

कितना अजीब लगेगा कि 
आप अपने प्रिय छात्र को 
अचानक सामने पायें
और उससे पूछें तुम्हारा नाम क्या है
और उस बस स्टाप का नाम 
जहाँ से छात्र जीवन में 
शाहदरा के लिये
बस पकड़ते थे

 

कितना कुछ चला गया है 
विस्मरण की भयानक दुनिया में
इसी तरह चलता है जीवन
एक दुनिया से दूसरी दुनिया में 
स्थानान्तरित होते हुए

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं