अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

वोमिटिंग बैग्स

अंकित' और 'सौरभ' शहर की एक नामी और एक ही मल्टीनेशनल कंपनी में जॉब करते थे। दोनों  अक्सर किसी विषय को लेकर एक-दूसरे से भिड़ते रहते थे। कभी-कभी दोनों अपनी वैचारिक-टकराव के दौरान अपने अन्य सहयोगियों से खेमेबंदी की अपेक्षा भी रखते। और इसी प्रयास के दौरान वे दोनों अकाट्य तर्क भी प्रस्तुत करते, जिससे उनके अन्य सहयोगी मज़े ले-लेकर श्रवण करते... पुनः स्थिति सामान्य होते देर-न लगती! 

आज फिर लंच के समय कैंटीन में दोनों शुरू हो गए। 

अंकित ने घोषणा की, "सोशल साइट, समाज को गुमराह कर दिशाहीन बना रहे हैं, भावी पीढ़ी बरबाद हो रही रही है, लोगों का चैन-सुकून सब छीन रहे हैं... कोई भी आकर इस पर अपनी वैचारिक उलटी कर चला जाता है... अतः इसे यदि! 'वोमिटिंग बैग्स' कहा जाये तो कोई अतिश्योक्ति न होगी।" 

इतना सुनते ही सौरभ 'सोशल-साइट' के पक्ष में अनगिनत तर्क प्रस्तुत करने लगा। जैसे- सूचना का असीमित-भंडार, अपने विचारों को पूरी आज़ादी के साथ रखने का प्लेटफ़ॉर्म... और न जाने! क्या-क्या!

सहसा कैंटीन के टीवी स्क्रीन पर चल रहे समाचार-चैनल की एंकर ने लगभग चिल्लाते हुए कहा, "फलाने शहर में दो गुटों में हिंसक झड़प ...दोनों समुदाय से दो-दो व्यक्ति गिरफ्तार... ज़िलाधिकारी ने  कि दंगे की वज़ह 'सोशल-साइट' पर फैलाये  गए उन्मादी सन्देश को बताया... तथा अगले चौबीस घंटों के लिए ...शहर में इंटरनेट सेवा पर रोक का आदेश दिया है...!"

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

लघुकथा

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं