अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

यह लॉकडाउन है

यह लॉकडाउन है, 

चल पड़े, 
इसे लगते ही 
वे मीलों के सफ़र 
पैदल ही तय करने
कोई सौ, कोई पाँच सौ, 
कई हज़ारों  की दूरी,
हालत ख़स्ता, 
पस्त 
रक्तल्प धमनियाँ
और शिराएँ
पैर अंकिश्त,
पेट चिपका
पीठ से,
अधोमुख
और
दिल की धड़कन डाउन है,
                            यह लॉक डाउन है


झुलसा चेहरा
लथपथ काया 
पैरों में
बिबाई
गहरे घाव
छालों के साथ
रक्त का आख़िरी
क़तरा 
बस
दौड़ रहा है
पारे की एक बूँद की तरह
जीर्ण देह में,
एक आस
घर पहुँचने की 
मंज़िल दूर
विदीर्ण हृदय है,
पर क्या करना उन्हें
जिनके सर पर क्राउन है
                               यह लॉक डाउन है

उपार्जन की
उम्मीद पर
चले थे
शहर की ओर
छिन गया 
सब कुछ,
किसी को बेचनी पड़ी
अपनी पायल,
तो किसी को अपने बैल
कइयों को
ख़ुद ही जुतना पड़ा,


नौनिहालों 
को कंधों बिठाये
वत्सला
और
माँ को पीठ पर 
लादे पुत्र


खाली पेट, 
एक मुट्ठी
भुने चने
कुछ सिंके आटे

भरपूर उम्मीद
के बल पर 
कर रहे मैराथन
उन्हें नहीं पता 
पुरस्कार 
स्वरूप 
जायेगी जान
यह
मौत का कामडाउन है।
                         यह लॉक डाउन है।


निस्पृह 
तीन दिन बाद 
खाना देखकर रो उठती है
बदनसीबी
और दिल 
दहल जाता है
हमारा,
अज़हल 
इख़्तिराई बयानों
को सुनकर
लगता है
खाल उतारकर
चमड़ा 
रँगने 
की तैयारी है, 
झूठे भरोसे
आश्वासनों ने 
छला उन्हें
वहाँ चर्बआखोर निगहबान है,
                         यह लॉक डाउन है।
इंतज़ाम के
अख़लकंद
से मूर्ख बनती 
ग़रीब अवाम,

मधुप की तरह
जिसका 
सार शहद
निचोड़कर
छोड़ा गया 
झुण्ड में 
मवेशियों के माफ़िक
भूख से रिरियाती हुईं
इस तपती गर्मी में 
बदइंतज़ामी के शिकार
इनकी आफ़त में जान है,
नींद 
कैसे आती होगी
उन्हें
जो इस देश के हुक्मरान है।   
                        यह लॉक डाउन है। 

शब्दार्थ-

अंकिश्त=जली हुई लकड़ी
निष्पृह=जो मिल जाये उसी पर गुज़ारा करना
इख़्तिराई=फ़र्ज़ी
चर्बआखोर=मुफ़्तखोर
अख़लकंद=झुनझुना         
अज़हल=मूर्खतम
निगहबान=देखरेख करने वाला

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

नज़्म

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं