अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

ज़िंदगी एक झूला है

ज़िंदगी एक झूला है साहब
अगर पीछे जाए 
तो डरो मत
वह आगे भी आयेगा
वह जितना पीछे जायेगा
उतना ही आगे आयेगा
उसी वेग से 
बस हौसला रख
 
रख यक़ीं 
उस ऊपर वाले पर
और करता रह अपना काम 
सहजता से,
 
वे मोटे दरख़्त
उनके पुष्पजों
के मानिंद
जो झेल कर झंझावातों को 
हिलते रहते हैं ख़ुशी से
और गिरकर भी उग आते हैं
कई बार उसी ज़मीं पर,
बस जज़्बा रख
 
जैसे करती रहती हैं 
नन्हीं चीटिंयाँ अपने अंडों
और अपने आहार की
उचित व्यवस्था 
उठाये रहती हैं उनका भार
इधर से उधर, उधर से इधर,
 
वह रौंधी जा सकती 
किसी के पैरों तले
फिर भी करती रहती है 
अपना काम
भयमुक्त होकर
बस हिम्मत रख
 
अमृता
की लताएँ
प्रतिकूल मौसम में
पात हीन होकर भी
रहती हैं पेड़ों पर सवार
अपनी ऊर्जा को करती रहती हैं
सिंचित
और फिर हरी भरी हो जाती हैं
बनती हैँ रोग मुक्ति का उपाय।
बस भाव रख
 
होते हैं कई बार
कई काम 
धीरे-धीरे
धीरज से
बस धैर्य रख
 
हमेशा से दुनिया
उम्मीदों पर
क़ायम रही है
बस उम्मीद रख 
 
दैदीप्यमान नक्षत्र
ग्रह, तारागण
जिनकी चमक
ग्रहण से कम हो
जाती है,
लेकिन प्रतिभा कहाँ
छुपती है
अधिक समय तक
वे निकल आते हैं
फिर
अपनी तेजोमयता
और 
शीतलता के साथ
बस चाहत रख
 
क़हर फैलता है
तो फैलने दे,
फैला है
यह हर युग में,
और 
हर बार-अमानव
इसे
फैलाते रहेंगे,
मानव बन
रख दूरियाँ
सम्भल कर चल
तैयारी रख
निकल
बस सावधानी रख
 
सूखी लकड़ी नहीं है तू
जो टूट कर गिर जायेगा
समय का इंतज़ार कर
झूले के वेग की तरह 
ही 
सूद समेत
सब मिल जायेगा,
बस आस रख
 
ज़िंदगी एक झूला है साहब
पीछे जायेगा 
तो आगे भी ज़रूर आयेगा।
उसी वेग से
हवा की तरह 
हल्का होकर। 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

नज़्म

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं