अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

विजय कुमार सप्पत्ति

शिक्षा : एम.बी.ए., एच.आर.डी., मार्केटिंग मैनेजमेंट, इंग्लिश, लिट्रेचर,माईनिंग इंजिनीयरिंग

प्रकाशन :

  1. “उजले चाँद की बेचैनी” - कविता संग्रह 

  2. “एक थी माया” - कहानी संग्रह 

  3. तीन साझा कविता संग्रह

देश विदेश की पत्रिकाओं और समाचार पत्रों में प्रकाशित
सेमीनार, कार्यशालाओं में भागीदारी : बहुत सारे क्षेत्रीय और राष्ट्रीय कार्यशालाएँ /प्रतियोगिता
सम्मान :    

संप्रति : सी ई ओ
अन्य जानकारियाँ : कुछ लफ्ज़ मेरे बारे में : मैं एक सीधा साधा स्वपनदर्शी इंसान हूँ और अक्सर एक कवि, लेखक, गायक, संगीतकार, फोटोग्राफर, शिल्पकार, पेंटर, कॉमिक आर्टिस्ट इत्यादि के स्वरूप में जब जैसे भी हो; खुद को व्यक्त कर लेता हूँ। और फिर आप सभी के लिए एक विद्यार्थी, मित्र, प्रेमी, दार्शनिक, शिष्य, मार्गदर्शक के रूप में तो हूँ ही !
ब्लॉग :    कविताओं के मन सेकहानियों के मन से

लेखक की कृतियाँ

कविता

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं