अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

अमरकंठ से निकली रेवा

अमरकंठ से निकली रेवा
अमृत्व का वरदान लिये।


वादियाँ सब गूँज उठीं और
वृक्ष खड़े प्रणाम किये।
तवा, गंजाल, कुण्डी, चोरल और
मान, हटनी को साथ लिये।
अमरकंठ से निकली रेवा
अमृत्व का वरदान लिये।


कपिलधार से गिर कर आई
जीवों को जीवन दान दिये।
विंध्या की सूखी घाटी में
वन-उपवन सब तान दिए।
अमरकंठ से निकली रेवा
अमृत्व का वरदान लिये।


सात पहाड़ों से ग़ुज़रे ये
सतपुड़ा की शान है।
प्राकृतिक परिवेश की रानी
पंचमढ़ी की जान है।
ओंकारेश्वर में शिव शंकर
स्वयं खड़े प्रणाम किये।
अमरकंठ से निकली रेवा
अमृत्व का वरदान लिये।


इस बस्ती में आकर
ख़ुद को विकट विपदा में डाल दिया।
इंसानों के वेश में बेठे
शैतानों को पाल लिया।
यहाँ पग-पग पर पाखंडी बैठे
कर्मकाण्ड के हथियार लिए।
अमरकंठ से निकली रेवा
अमृत्व का वरदान लिये।


पहले तुझमे झाँककर
लोग ख़ुद को देख जाते थे।
मन, ज़ुबां की प्यास बुझाने
तेरे दर पर आते थे।
आज तेरे किनारों से लौटा हूँ
मट-मैली मुस्कान लिए।
अमरकंठ से निकली रेवा
अमृत्व का वरदान लिये।


तू रोती भी होगी तो हम
देख ना पाते हैं।
तेरे आँसू तुझसे निकलकर
तुझमें ही मिल जाते हैं।
कड़वे-कड़वे घूँट दर्द के
तूने घुट-घुट कर ही ग्रहण किये।
अमरकंठ से निकली रेवा
अमृत्व का वरदान लिये।


कष्ट देकर और फिर माँ कहकर
गज़ब का दाँव खेला है।
तेरा धीरे-धीरे सूखना
नेहले पे फिर देहला है।
धिक्कार है उस समाज पे जो
तुझे मारकर ख़ुद जिये।
अमरकंठ से निकली रेवा
अमृत्व का वरदान लिये।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं