अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

अपनी अपनी खिड़कियाँ

आओ!
आओ कभी मेरे घर!
मेरी आत्मा
मेरी दृष्टि में आओ
देखो मेरी खिड़की से यह संसार
देखो कि
इस तरह भी देखती है कोई दृष्टि

 

आओ देखो
मेरी आँखों में पानी का वह क़तरा देखो
जो बाढ़ के पानी की तरह
हिन्दू-मुस्लिम में भेद नहीं कर सका कभी

 

आओ देखो
मेरे हृदय का वह दोलन
जो भीड़ की आक्रामक वीभत्स आवाज़ों से
भयभीत था 
एक नन्ही बालक-जान की तरह

 

आओ देखो 
मेरे विचारों में पसरता अवसाद
मेरे अविश्वासों में पालथी मार ज़रा देर बैठो
देखो कितने नाख़ुश
कितने नकारात्मक हो चले हैं
हमारे देशकाल के
युवा चेहरे
देखो उनकी लुनाई की हत्या को /आँख
खोलकर देखो

 

आओ 
और देखो
इतना भी न बोलो
विराम दो अपने 
उद्दाऽऽम कथनों को
और सुन ही लो एक बार
वह मौन/ जो
जिह्वा के थमने पर ही
देता है सुनाई 
संभव है इस मौन में
दिख ही जाए तुम्हें
 घर के कोने में दुबका
अवहेलित 
सहमा/कृशकाय
राख ओढ़ छिपी बैठी चिंगारी सा
कोई सत्य!

 

आओ 
देखो कि तुम्हारी तरह नहीं देखते सब
ये करोड़ों - करोड़ लोग
सब देखते हैं अपनी तरह
सबका देखना/ देखो एक बार तुम

 

एक बार ही सही
देख लो/ सबकी/ अपनी अपनी खिड़कियाँ
अजानों - आरतियों के समानांतर खड़े
कुछ धरम / कुछ करम!
छोटे -बड़े की लंबाई नापने में असहज
कुछ अड़ियल इंसानी जातें!
औरत या आदमी की तरह
न सोच पाने को विकल 
कुछ आत्माएँ।

 

देख लो एक बार
उनकी खिड़की से कैसी दिखती है
यह दुनिया
ताकि सबके /अपनी-अपनी तरह देखने से
इंकार न कर सको
तुम!

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

शोध निबन्ध

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं