अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

चालीस की कगार पर

चालीस की कगार पर पहुँचने के बाद
उसे लगा कि 
फिर शुरू करनी चाहिए ज़िंदगी
इसलिए नहीं कि उन्तालीस तक उसने
नहीं जी थी ज़िंदगी
इसलिए कि वह पार कर आया था 
मौसमों को तेज़ी से
मौसम देख रहे थे उसकी तरफ़
पर उसकी निगाह सड़क पर थी
कोलतार से पुती काली कठोर सड़क
वह पार कर रहा था कई पुल दोराहे, चौराहे
गुलदाउदी खिलते थे, मुरझाते थे
पलाश का लाल रंग पतझर में जाते जाते
सब कुछ को लाल रंग में रँग देता था
पर उसके साल बीत रहे थे सवालों में
वह बैरंग लिफ़ाफ़े सा 
अपने ही जवाबों की तलाश में
ख़ाली लौट रहा था अपने पास
शायद वह घिरा था चीज़ों में
और उसके सवाल भी 
चीज़ों को लेकर ज़्यादा थे
इस डर से कि कहीं दुनिया 
ख़ाली न हो जाये चीज़ों से
जबकि चीज़ें उसे ख़ाली कर रहीं थीं
जैसे कोई पूरी ऊर्जा को सोख कर
सक्शन पंप से खींच ले बाहर
उसे लगता था कि वह जुटायी हुई चीज़ों से
बचा लेगा दुनिया
पर उसे कहाँ पता था 
दूसरी चीज़ों की तरह
उसका ख़ुद का वजूद भी 
तब्दील हो चला था
एक चलती फिरती चीज़ में
ख़ुद अपने लिए भी
और दूसरों के लिए भी
उसके चालीसवें जन्मदिन पर 
जब किसी ने
उसे गुलाब भेजे
तो उसे लगा कि गुलाब गुलाब क्यों है?
इसलिए नहीं कि उसका रंग सुर्ख लाल है
इसलिए भी नहीं कि उसमें ख़ुशबू है
इसलिए भी नहीं कि
छूने पर उसे 
कोमलता का एहसास होता है 
दुनिया की कठोरता के विरोध में
बल्कि उसे ख़ुद पता नहीं कि 
वह गुलाब है
वह नहीं पूछता सवाल मौसमों से
कि क्यों एक मौसम खिलाता है उसे
और दूसरे में वह झर जाता है डाल से
वह नहीं पूछता कि क्यों कभी कभी
पलाश का रंग बाज़ी मार लेता है उससे
उसने कब कहा था दुनिया से कि उसे
गुलाब कहा जाये?
उसे तो पता भी नहीं कि क्यों कहा गया
उसे गुलाब ही, पलाश नहीं
ज़िंदगी का चालीसवां साल आदमी को
दार्शनिक बनाता हो, ऐसा नहीं है
पर शायद चीज़ों से भरी दुनिया में
ख़ाली होते मन की धड़कनें 
कुछ साफ़ सुनाई
देने लगती हैं शायद कभी कभार
और वह मन को पूरा
ख़ाली होने देना चाहता हो
ताकि उसके किसी कोने में 
रखा जा सके
गुलाब उसके काँटों के साथ।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं