अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

दीवाली का दिन

हे राम! एक पल को भी आराम नहीं है
कौन कहता है बच्चों को कोई काम नहीं है


दोनों भाईयों में इस बरस दौड़ लगी है
किसका पहला पटाखा होगा होड़ लगी है
कई बार इसका गणित आंक चुके हैं
पटाखे साँझे कर फिर बाँट चुके हैं


आज फिर पापा साथ बाज़ार गए थे
उन्होंने भी कुछ पटाखे और लिए थे
पापा बोले "यह केवल मेरे हैं -"
हँस कर बोले, "न तेरे हैं, और न तेरे हैं"
हम जानते हैं पापा यूँ ही सदा कहते हैं
हमारे पटाखे खत्म होने पर हमें देते हैं


हर दुकान खूब सजी थी
तेली के भी भीड़ जमी थी
मोटू हलवाई भी खुश दिखता था
उसका माल भी खूब बिकता था


"चलो बच्चो दिये भिगो दो पानी में"
दादी माँ यूँ बोल रही हैं
"अब सब मिल रूई की बाती ओटो"
उनकी बातें रस घोल रही हैं


कई बार पापा से बोला "बेटा सुन ले
अभी लानी है ‘हट्टी‘, चावल की खीलें
खांड के खिलौने और चोमुख दीया भी लाना है
जल्दी घर आना अभी मन्दिर भी सजाना है"


बच्चों पर तो रात की प्रतीक्षा भारी है
उनकी तो सुबह से पटाखों की तैयारी है
साँझ होते ही हर चौखट पर दिये सजा रहे हैं
हर दीवार पर रंग-बिरंगी मोमबत्तियाँ लगा रहे हैं


"माँ जल्दी से पूजा करो हम क्यों रुके हैं
पड़ोस में तो पटाखे शुरू हो चुके हैं -


हे भगवान् तू भी तो कभी बच्चा होगा
आज हवा न चले तो अच्छा होगा
बार बार दिया मोमबत्ती बुझ जाती है
‘हवाई‘ भी तो उड़ कहाँ की कहाँ जाती है"


चल भैय्या फिर साँझ कर लेते हैं
मिला कर पटाखे देर तक चलते हैं
सुबह फिर हमें जल्दी जल्दी उठना है
मेहतर से पहले अनचले बमों को चुगना है
दीवारों पर बिखरी मोम को जमा करेंगे
फिर पिघला कर क्या क्या खिलौने बनेंगे


हे राम! एक पल को भी आराम नहीं है
कौन कहता है बच्चों को कोई काम नहीं है

 

हट्टी - पंजाब में दीवाली पूजन के समय मिट्टी का बना एक घर-सा खील बताशों से भर कर रखा जाता था जिसके चार कोनों पर दीपक भी जलाए जाते थे

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

ऐसा देश है मेरा
|

चाणक्य के तक़दीर में था राजयोग फिर भी माँ…

कहाँ गए
|

पता नहीं वे मित्र हमारे, कहाँ गए सारे के…

छन्न पकैया
|

छन्न पकैया छन्न पकैया, माँझी नाव चलाये।…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी

पुस्तक चर्चा

कविता

किशोर साहित्य कविता

सम्पादकीय

पुस्तक समीक्षा

विडियो

ऑडियो

उपलब्ध नहीं