अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

हमऊँ देऊ

एक लकड़हारा था जो रोज जंगल में लकड़ी काटने जाता था। एक दिन उसका बच्चा ज़िद करने लगा कि मुझे भी साथ ले चलो। पापा ने मना किया कि तुम्हें भूख लगेगी, प्यास लगेगी, और वहाँ कुछ नहीं मिलेगा। पर ज़िद करने पर साथ ले गया। दोपहर में भूख प्यास लगने पर बच्चा रोने लगा। लकड़हारे ने पेड़ पर चढ़कर देखा तो दूर एक झोपड़ी मे धुआँ उठ रहा था। वहाँ जाकर आवाज दी “कोई है... केई है” पर अंदर कोई नहीं था। घर के अंदर गया तो देखा कि चूल्हे पर दूध उबल रहा था व चावल, चीनी पास में रखी थी। लकड़हारे ने दूध में चावल डालकर खीर बना ली। थाली में परसी, तब तक बाहर से किसी के आने की आवाज सुनाई दी। दोनों जल्दी से अनाज के कुठिले में छिप गये। वहाँ एक शेर आया। शेर ने सोचा कि खीर किसने बना दी। उसने धर मे ढूँढा तो कोई नहीं दिखाई दिया। फिर शेर खीर खाने लगा। बच्चा यह देखकर बोला कि पापा खीर हमने बनाई और यह सब खाये जा रहा है। लकड़हारा बोला, “चुप रह, नहीं तो शेर हमको खा जायेगा।” बच्चा नहीं माना और बोला, “हमऊँ देऊ, हमऊँ देउ।” शेर चौंका कि यह आवाज कहाँ से आई, पर कोई दिखाई नहीं दिया तो फिर खीर खाने लगा। यह देखकर बच्चा फिर बोला, “हमऊँ देऊ, हमऊ देऊ।” इसी तरह एक बार फिर हुआ। शेर किसी को न देखकर डर गया और कूद कर भाग गया। भागते भागते रास्ते में एक बंदर मिला। बंदर बोला, “शेर मामा, शेर मामा! तुम तो जंगल के राजा हो, तुम किससे डरकर भाग रहे हो?” शेर बोला, “क्या करें मेरे घर में हमऊ देऊ घुस आया है।” बंदर बोला “उसमें क्या बात है उसको तो मैं निकाल दूँगा। पर पहले हम तुम दुम बाँध लें।” घर पहुँचे तो बंदर ने दुम पर कपड़ा लपेटा और बोला “निकल हमऊ देऊ, निकल हमऊ देऊ, निकल हमऊ देऊ।” शेर ने कहा, “कुठिले से भी हमऊ देऊ निकाल दो।” तब दोनों ने कुठिले में पूँछ डाल दी और बंदर ने कहा, “निेकल हमऊ देऊ, निकल हमऊ देऊ” तब ब्च्चे ने लपककर दुम पकड़ ली। अब दोनों दुम को बाहर खींचे और बच्चा अंदर खींचे। तब पापा ने भी दुम पकड़ ली और अंदर बाहर खींचने लगे। “टग ऑफ़” वार हो गया। दोनों की दुम उखड़ गई और वे डर के मारे भागने लगे। भागते भागते बंदर बोला, “शेर मामा! तुमने तो कहा था कि तुम्हारे घर में हमऊ देऊ है पर तुम्हारे घर में तो पूँछ-उखाड़ घुसा था। तुमने अपनी भी पूँछ उखड़वा ली और मेरी भी उखड़वा दी। अगर हमऊ देऊ होता तो मैं निकाल देता।” शेर शरमा के भाग गया और लकड़हारा और उसका बच्चा शेर के घर में रहने लगे- कहानी खतम, पैसा हजम।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

आँगन की चिड़िया  
|

बाल कहानी (स्तर 3) "चीं चीं चीं चीं" …

आसमानी आफ़त
|

 बंटी बंदर ने घबराएं हुए बंदरों से…

आख़िरी सलाम
|

 अखिल भारतीय कहानी प्रतियोगिता में…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

बाल साहित्य कहानी

आप-बीती

कहानी

स्मृति लेख

लघुकथा

किशोर साहित्य कहानी

प्रहसन

पुस्तक समीक्षा

यात्रा-संस्मरण

ललित निबन्ध

बाल साहित्य नाटक

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं