अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

जब से मैंने तुम्हें निहारा

जब से मैंने तुम्हें निहारा
तुझमें मुझमें रहा ना अंतर॥

तुझे प्रतीक्षा रहती मेरी
मैं उलटी साँसें गिनता हूँ
बाट जोहता रहता है तू
मैं गिरता चलता रहता हूँ
पद रखने की आहट पाकर
सपनों की दुनिया के अंदर
मैं तेरे अंदर जग जाता
तू जग जाता मेरे अंदर

जब से मैंने तुम्हें निहारा
तुझमें मुझमें रहा ना अंतर॥


तुम हो कल्पित साथी मन के
मेरे एकाकी जीवन के
मैं भी बंदी बनकर तेरा
जीता हूँ हर पल जीवन के
करता है तू बस मुझसे ही 
जन्म-मरण के प्रश्न चिरंतर
मैं आँसू के कण गिन गिनकर
सोचा करता मैं क्या दूँ उत्तर

जब से मैंने तुम्हें निहारा
तुझमें मुझमें रहा ना अंतर॥

मुखरित है हर सिन्धु लहर में
युग युग की है तेरी वाणी
मैं बोलूँ या लिखना चाहूँ
बनता वह नयनों का पानी
छिपना है तो छिप जा मुझमें
मेरे तन मन उर के अंदर
तू ही तो कहता था मुझसे
छिप न सकेंगे उर के क्रंदन

जब से मैंने तुम्हें निहारा
तुझमें मुझमें रहा ना अंतर॥

रंगबिरंगी रत्न जड़ित-सा
है शृंगार अनोखा तेरा
मेरे दुख सब रत्न बने है
आँसू है मोती सा मेरा
तू मूरत पत्थर की बनकर
शोभित करता अपना मंदिर
मेरी काया घेर रखे हैं
मेरे पथ के सारे पत्थर

जब से मैंने तुम्हें निहारा
तुझमें मुझमें रहा ना अंतर॥

सकल विश्व है तेरा अनुपम
सुन्दरता सब तुझसे ही है
पर विष जो तेरे कंठ धरा
मधुरस-सा वह मुझमें भी है
तू बैठा निश्चिंत अकेला
सबके बाहर, सबके अंदर
मैं बैठा सुनसान डगर पर
सोचूँ क्या है मेरे अंदर

जब से मैंने तुम्हें निहारा
तुझमें मुझमें रहा ना अंतर॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

बाल साहित्य कविता

बाल साहित्य कहानी

लघुकथा

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं