अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मेरे पिता मेरी अभिव्यक्ति

मेरे पिता मेरी अभिव्यक्ति

इस बार बादलों को खोजा है
पहले ख़ुद छा जाते थे
इस बार शब्दों को ढूँढ़ा है
पहले ख़ुद आ जाते थे

बेतुके से लगने लगे
अपने ही शब्द
ये देख कर मैं रह
गया अचंभित, स्तब्ध

इस बार लहरों को नहीं
समंदर को चुना था
इन्होंने ही मेरा
पूरा संसार बुना था

राह उनकी काँटों से
भरी रही
मगर मन रूपी घास
हमेशा हरी रही

जीवन में कठिनाइयाँ आईं
मगर कभी भी
ग़लत राह
नहीं अपनाई

जब विशाल पेड़ थे
तो सबने ली छाया
कुछ टहनियाँ क्या कटीं
ख़ुद को अकेला पाया

टहनियों के कटने से
कमज़ोर नहीं पड़े
और मज़बूती व् हिम्मत से
हर समस्या से लड़े

विपरीत परिस्थितियों से
लड़ने की दम थी
सम्मान कम मिला
क्यूंकि हरियाली कम थी

मन का सरोवर
दर्द से भरा होगा
अकेला ही सारे बोझ
सेह रहा होगा

उस सरोवर की एक बूँद भी
उनके चेहरे पर नही दिखती
मेरे पिता
मेरी अभिव्यक्ति

क़ुद की इच्छाओं का गला घोंट
मेरी तम्मना पूछते हैं
मेरे लिए अनेको बार
ख़ुद से ही झूझते हैं

उनमें है सहनशीलता की
अनोखी शक्ति
मेरे पिता
मेरी अभियव्यक्ति

डगमगा जाता हूँ अगर
आपकी सीखों से सँभलता हूँ
पैसों की इस दुनिया में
मै संतोष की राह पर चलता हूँ

मुझसे पहले खुलती है
मेरे बाद बंद होती है
चमक दमक से भरी वो आँखें
मुझसे छुपकर रोती हैं

वो कहते है चंद रुकावटों
से ज़िन्दगी थम नहीं सकती
मेरे पिता
मेरी अभिव्यक्ति

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं