अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

परवरिश  का असर 

बहुधा मैं ये सोचा करता
परवरिश का असर कितना है पड़ता


इंसान के आचार पर
विचार और व्यवहार पर


स्वभाव पर, कर्म पर मन पर
अन्तोत्गत्वा पूरे ही जीवन पर


कुछ तो कहते बड़ा असर है
सारा पालन पर ही तो निर्भर है


नैसर्गिक चाहे जो हो वृत्ति
पर छोटे बच्चे कच्ची मिट्टी


माँ बाप चाहे त्यूँ ढालें 
पशु को सभ्य मनुष्य बना लें


पर यदि बात यूँ सीधी सी होती
तो घर घर बुद्धों की न जलती ज्योति


इरछी-तिरछी कई कोणों पर मुड़ती
ये गाथा तो पूर्व जन्म के कर्मों से जुड़ती


उन सारी यात्रायों के संस्कार
से ही तो नव-जीवन लेता आकार 


फिर कुछ लोगों का पक्का मत है
की ये तो ज्योतिष का ही खेल समस्त है


आदतें गुण शक्ति सीमाएँ
सबकी मालिक  तारों की दशाएँ


ज्योतिष तो सटीक समय पर निर्भर
मतभेद बड़ा इसको भी लेकर


कि क्या आत्मा का गर्भ प्रवेश सही जन्म  है
या उचित समय प्रसव का क्षण है


फिर विज्ञान की तो अपनी अलग ही थ्योरी
की पूर्व जन्म ज्योतिष इत्यादि बकवास है कोरी


सब गुण  सूत्र और डीएनए से तय हैं
स्टेम सेल्स पे प्रयोग होते रोज़ नए हैं


जेनेटिक्स के शोध में ये हे पाया
के पूरे जीवन का ब्लू प्रिंट पहले से समाया


लेकर ये सारे पूर्व निर्देश
बच्चा जग में करता प्रवेश


फिर जन्मते ही परिवार से पाता दीक्षा
फिर स्कूल से मिलती ढेर सी शिक्षा


देश धर्म  युग और भाषा
सब थोपते अपनी अलग परिभाषा


साहित्य सिनेमा समाज की संगत 
और सबसे बढ़ कर माली हालत


इन सारी चीज़ों का कमोबेश योगदान
मिलकर करता व्यक्तित्व का निर्माण


तो  इतना बड़ा ये गोरख धंधा
बिन आदि अंत की ये महागाथा


बहुधा में ये सोचा करता
मात्र परवरिश का असर कितना पड़ता

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं