अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

सौन्दर्य की मर्यादा

एक गौर वर्ण दुबली-पतली,
मुस्कान मधुर झलकी- झलकी,
ईंटों का बोझ लिये सिर पर,
चलती है गति धीमी-धीमी,

 

अधरों की लाली सूखी है,
फिर भी मुस्कान सरीखी है,
नजरें नत हैं फिर भी चंचल,
आँखों में धूरि भरी सी है,

 

कन्धे आगे को झुके हुये,
जूड़ा बालों में दिये हुये,
कटि क्षीण और कुछ झुकी हुई,
है कर्मशील बिन थके हुये,

 

बिन तल्ली के पाँव,
देखते नहीं धूप और छाँव,
न देखें कंकड़ पत्थर,
चलें वह जीवन पथ पर,

 

मार्ग ’महात्मा गाँधी’ पर,
’सूर-सदन’ के दरवाजे पर,
प्रेम की नगरी ’ताज’,
तड़पती बीच डगर पर,

 

शीत से सिमट गया तन गौर,
त्वचा पर बल रेखा हैं और,
बदन पर फटी-पुरानी सौर,
न कोई कपड़ा है कुछ और,

 

शीत लगे ठिठुरी-ठिठुरी,
मन से है कुछ उलझी-उलझी,
पर, कोप करे तो करे किनपे,
खुद ही मन में उखड़ी-उखड़ी

,

देखा जब सौन्दर्य प्रकृति का,
दर्द उठा फिर बड़ा गजब का,
सोचा क्यों सौन्दर्य भटकता ?
क्या इसमें है दोष प्रकृति का ?

दोष प्रकृति का नहीं, किन्तु,
रहे सौन्दर्य, बँधा अपनी मर्यादा,
मर्यादा की नाव अगर हिचकोले लेती,
कैसे सब सम्मान जगत का अपने ऊपर लेती ?

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कविता-मुक्तक

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं