अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

बचपन का ज़माना

रोज़ाना साँझ ढलते ही 
दिल का उदास होना,
वो गुज़रे हुए लम्हों को 
याद करके रोना,
वो रातों को बिस्तर पर 
पहेलियाँ बुझाना,
वो छोटी सी बातों पर 
रूठना-मनाना।

 

छोटी सी ज़िद के लिए 
घंटों तक रोना,
माँ के न जगाने तक 
बिस्तर पर सोना,
अब ज़िन्दगी की लहरों में 
कलकल नहीं है,
अब प्रेम माँ के प्रेम सा 
निश्छल नहीं है।

 

खेल-खेल में लड़ते-झगड़ते,
फिर मान जाते,
ऐ क़ाश कि इस बचपन को हम,
पहले जान जाते,
नहीं पता था बचपन एक दिन,
पचपन में ले जायेगा,
उपहारों में गुज़रे कल की,
बस यादें दे जायगा।

 

वो भी एक दौर था,
जब मन के मौजी थे,
गाँव की गलियों के,
हम आवारा फौजी थे,
घर की छोटी सी दुनिया में,
अपना भी हुक़्म चलता था,
हँसते मुस्कुराते -
हर दिन ढलता था।

 

अब चेहरे बेवज़ह यारों के 
खिलते नहीं हैं,
दोस्त भी पुराने अंदाज़ में 
अब मिलते नहीं हैं,
गाँव से दूर जीवन 
कैसे बिताया है,
आज यहाँ आया हूँ,
तो दिल भर आया है।
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

नज़्म

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं