अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

महत्वहीन बेल

देख रही हूँ कैसे बारिश में
ज़मीन ने हरियाली का
छाता ओढ़ लिया है
हल्की बारिश की बूँदों में
भीगते मेरे शब्द
मिट्टी की ख़ुशबू के एहसास को समाये
खिड़की के बाहर की दुनिया को
बड़ी देर से देख रही हूँ
कुछ दिखा है शायद
जिसे नज़रअंदाज़ कर
आगे बढ़ने का मन नहीं किया।

क़लम जिसे हरियाली और
बारिश की बूँदों के बीच
कुछ हरे शब्द मिल गए हैं, जिन से
सफ़ेद पन्नों को हरे रंग में रँगने
का मन बनाया है मैंने।

एक बेल जो घर के मेन गेट के पास
बारिश का अपनत्व पा उग आई है
हाँ, वो बेल जिसने सीमेंट से
पट्ट ज़मीन को चिढ़ा
दीवार का सहारा बना
झूमने का मन बनाया है।

नई कोंपलें जो बेधड़क दीवार पर
चढ़ने की कोशिश में लगी हैं।

सब देख रही हूँ मैं
देखते देखते ही कुछ सवाल भी
बूँदों के साथ मन में बरसने लगे हैं -
कब तक ये यूँ ही झूमती रहेगी
कितने दिन यहाँ मेहमान बन ठहरेगी
कितने दिन बेफ़िक्री में यूँ ही
हवा के साथ खेलेगी।

कितने दिन बारिश की बूँदों को
अपने पत्तों पर ठहरा
कुछ वक़्त के लिए पनाह देगी।

मैं उस की ख़ुशी- उस के आज में
उसका कल- उसके अंत को भी
साफ़ देखकर फ़िक्रमंद हो रही हूँ
और सोच रही हूँ
क्या एक हवा का झोंका
काँच सी ठहरी बूँदों को अपने साथ ले जायेगा
और क्या ये बेल उखाड़ फेंक दी जायेगी
उसी दिन… जिस दिन कामवाली
आँटी की आँख में चढ़ेगी।

क्योंकि ये जंगली बेल
कहाँ सुंदरता बढ़ाती है
बाक़ी लगाए गए पेड़ पौधों की तरह
उसका यहाँ होना कोई महत्व नहीं रखता।

जानती हूँ -
वो इंसानी दिमाग़ की तरह
आज और कल में नहीं उलझी है
वो तो बस अभी और आज में
हवा के साथ झूमने में मस्त नज़र आ रही है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं