अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मन का चोला

ये छलका-छलका-सा
भरा-सा क्या है?

 

ये उलझा उलझा-सा
डरा-सा क्या है?

 

पलकें तो सूखी हैं
आँखें भी खाली हैं
फिर ये भीगा-भीगा-सा
सीला.. -सा क्या है?

 

क्या ये मन है मेरा?
हाँ.... मन ही होगा।
वरना ये अंदर- अंदर
नम-सा क्या है।

 

सारे कोने टटोल लिये
मन के मैंने ..
इस उद्विग्नता का रिसाव
स्रोत कहाँ है?
बहुत खंगाला बहुत बीना
तब थोड़ा-थोड़ा शायद
समझ रही हूँ ..
ये तो मेरा नारी
अस्तित्व है।
नारी शरीर का चोला
जो मेरे मन के ऊपर है
और स्थिर है।
औरररर नारी के तो
हर क़दम पर
सोच का पहरा है।
कुरूप कुटिल जटिल
मानसिकता का।
हाँ!!! अब समझी ..
ये घबराया-सा निडर-सा
उड़ता-सा थमा-सा
चलता-सा रुकता-सा
गिरता-सा सँभलता-सा
फूल-सा पर बींधा-सा
मेरा मन है.....
मेरे नन्हे से निश्छल मन का
निडर होने की कोशिश करता
नारी शरीर का चोला।

 

और इस चोले से ढके
मन का तो विचलित होना
स्वाभाविक है, स्थायी है
हाँ ...क्योंकि मेरे मन का
चोला नारी शरीर है ....

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं