अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

आईना

पार्सल खोला तो एल्बम था। पहला पृष्ट पलटा। उस के माता-पिता का फोटो था, "मुझे माफ़ कर देना। आप मुझे बहुत प्यार करते थे। हर छोटी-बड़ी चीज़ का ध्यान रखते थे। मगर मैंने आप के साथ धोखा किया," आँख से आँसू टपक पड़े।

दुसरा पृष्ट पलटाया। यह उस के प्रेम-विवाह का चित्र था, "मैं ने आप को जी-जान से ज़्यादा चाहा है। इस के लिए माता-पिता के अरमानों को बलिदान कर दिया," कहते हुए उस ने चित्र को चूम लिया।

तीसरे पृष्ट पर अस्पताल का चित्र था। उस ने पलंग पर सोई हुई पुत्री को देखा, "बेटी! मैं तेरी इच्छा का भी ध्यान रखूँगी। ताकि तू मेरी तरह क़दम न उठाने को मजबूर न हो," कहते हुए उसे माँ की सूनी आँखें याद आ गईं।

चौथे पृष्ट पर पति का चित्र था, "अब मैं भी आप के साथ अमेरिका में सुख से रहूँगी," उस की निगाहों में सपने तैरने लगे थे।

उस ने अगला पृष्ट पलटा। यहाँ काग़ज़ पर लिखा था, "मैं तुझे बहुत प्यार करता हूँ। तेरे बिना रह नहीं सकता हूँ।" पढ़ कर उस ने काग़ज़ चूम लिया, "मैं भी," कहते हुए वह यादों में खो गई।

जब होश आया तो अगला पृष्ट पलटा । वह चौंक गई। यहाँ पति दो बच्चे और एक औरत के साथ खड़े थे। "ये पहले से ही शादीशुदा थे" वह एक झटके के साथ आकाश में उडती हुई ज़मीन पर आ गई। उस की निगाहों के सामने माता-पिता का सवाली चेहरा घूम गया।

दुनिया में उस का एक मात्र सहारा उस का पति था, वह भी धोखेबाज़ निकला। पास ही रस्सी पड़ी थी। उस ने पंखे पर डाली। स्टूल पर चढ़ गई।

तभी उस की बच्ची ज़ोर से रो पड़ी।

"हे भगवान! अब तो मेरे अमृत मंथन का विषपान मुझे भी करना पड़ेगा, "कहते हुए वह बच्ची से लिपट कर रो पड़ी और उस की निगाहें शंकर भगवान के गले पर अटक गई।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक समीक्षा

बात-चीत

लघुकथा

बाल साहित्य कहानी

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं