अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

आज की नारी

आज की नारी
क्षमता है मुझ में
भरूँ उड़ान
दिखाऊँ ज्ञान गुण
नहीं अछूता
कोई कोना मुझ से
छू न पाऊँ मैं
'कल्पना' बन मैंने
छूआ था स्पेस
ऊच पदों पे बैठी
करती राज
जो सदियों से जानी
अबला गई
आज सबला बन
सम्भाले सीमा
सैनिक भेष धारे
खड़ी तैयार
आतंक मिटाने को
सशक्त बन
करने निगरानी
लाने को शान्ति
सीमाओं पर शत्रु
खड़े ताक में
बनाये देश द्रोही
बँटवारे की
पट्टी पढ़ाये, उन्हें
राह दिखाने
पथ भ्रष्ट हो गये
माँ के लालों को
मातृ भूमि महत्व
सिखाने हित
देश भक्ति के भाव
जगाये गी वो
गायें वन्दे मातरम्
हे ! जन्मभूमि
तेरी सदा जय हो
मिला के हाथ
चलेंगें अब साथ
होना पड़े न
जन्मदायिनी माँ को
लज्जित कभी
बिगड़े सपूतों को
नशे से हटा
राह उन्हे दिखाने
स्वदेश हित
आगे आयेगी नारी ।
धरा सी धैर्य धारी।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कविता - हाइकु

लघुकथा

चोका

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं