अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

चाहत

पिता ने शादी तय होते ही एक निवेदन किया था, जिसे लड़के ने मान लिया था।

"बेटा! एक ही विनती है," बारात का स्वागत करते हुए पिता ने याद दिलाया तो दुल्हे ने कहा, "आप निश्चिन्त रहिए। मुझे याद है।"

"पिता हूँ बेटा। दिल नहीं मनाता है इसलिए याद दिला रहा हूँ," फेरे आरम्भ होते ही पिता ने हाथ जोड़ कर वही बात दोहराई तो उन की पत्नी चुप न रह सकी, "सुनो जी! आप बारबार यही बात क्यों दोहरा रहे हैं। जब उन्होंने कहा दिया है कि....."

"तू नहीं जानती भागवान। पिता का दिल क्या होता है? यह हमारी लाडली बच्ची है। मैं नहीं चाहता हूँ कि उसे ससुराल में कोई अपमान सहन करना पड़े।" पिता भावुकता में कुछ और कहते की पत्नी बोल उठी, "मैं उसकी माँ हूँ। भला! मैं क्यों नहीं जानूँगी। मगर, आप ... "

यह सुन कर पिता खींज उठे, "तुझे क्या पता। कब, कहाँ, कैसी बातें करनी चाहिए? तुझे तो ठीक से बात करनी भी नहीं आती।"

"क्या!" पत्नी ने आसपास देखते हुए लोगों की निगाहों से बच कर अपने आँसू पोंछ लिए।

"मैंने दामादजी से कह दिया। मेरी बच्ची से भले ही ख़ूब काम करवाना। मगर ग़लती हो तो दूसरे के सामने जलील मत करना। उस का दिल मत दुखाना। जब कि यह बात तुझे कहनी चाहिए थी," पिता ने तैश में कहा तो पत्नी ने चुप रहने में ही अपनी भलाई समझी। वह शादी में कोई बखेड़ा खड़ा करना नहीं चाहती थी।

मगर जब विदाई के समय पिता ने वही बात दोहरानी चाही तो बेटी ने एक चिट्ठी निकाल कर पिता की ओर बढ़ा दी। जिस में लिखा था, "पापा! मम्मी भी किसी की बेटी है। काश! आप भी यह समझ पाते।"

यह पढ़ कर पिता ज़मीन पर गिरते-गिरते बचे और माँ के बंधनमुक्त हाथ, आज पहली बार आशीर्वाद के लिए उठे थे और सजल आँखे आसमान की ओर निहार रहीं थीं।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अँधेरा
|

डॉक्टर की पर्ची दुकानदार को थमा कर भी चच्ची…

अंजुम जी
|

अवसाद कब किसे, क्यों, किस वज़ह से अपना शिकार…

अंडा
|

मिश्रा जी अभी तक'ब्राह्मणत्व' का…

अंधविश्वास
|

प्रत्येक दिन किसी न किसी व्यक्ति की मौत…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक समीक्षा

बात-चीत

लघुकथा

बाल साहित्य कहानी

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं