अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य ललित कला

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मैं और मेरा घर

सदियों से तनहा है, वीरान सा रहता है,
मेरा घर मुझसे अक़्सर ये कहता है।
दोनों ही महरूम हैं परवाह करने वालों से,
दोनों ही परेशां हैं ज़िन्दगी के सवालों से।

 

मेरी और मेरे घर की कहानी एक सी है,
उसका बुढ़ापा और मेरी जवानी एक सी है।
टूटे हैं दोनों ही, कोई मरम्मत नहीं करता,
शायद कोई अपना भी हमसे, मुहब्बत नहीं करता।

 

कबेलू टूट चुके, लकड़ियाँ भी सड़ गई,
मेरे दर्द की कहानी भी, इस हद तक बढ़ गई।
रहता है ख़ामोश किसी से, गुफ़्तगू नहीं करता,
दास्तान-ए-दर्द को रूबरू नहीं करता।

 

हो चुका जर्जर बहुत, हर कोना कच्चा है,
मानों बिछड़कर रो रहा, अपनों से कोई बच्चा है।
मुद्दत से त्यौहार कोई मनाया नहीं हमने,
ज़िन्दगी का गीत अब तक गाया नहीं हमने।

 

एक अरसे से रहे, एक दूसरे से हम जुदा,
तू भी तनहा मैं भी तनहा, हम दोनों ही ग़मज़दा।
सूना है तेरा आँगन, किसी ने सजाया नहीं है,
मैं रूठा हूँ कई दिनों से, किसी ने मनाया नहीं है।

 

मेरी ज़िन्दगी, और तेरी, दीवारें बेरंग हैं,
बाक़ी रहा न उल्लास कोई, न कोई उमंग है।
पतझड़ के सूखे पेड़ से हालात हमारे हैं,
गुज़रे न किसी और पर, जो दिन हमने गुज़ारे हैं।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

1984 का पंजाब
|

शाम ढले अक्सर ज़ुल्म के साये को छत से उतरते…

 हम उठे तो जग उठा
|

हम उठे तो जग उठा, सो गए तो रात है, लगता…

अच्छा लगा
|

तेरा ज़िंदगी में आना, अच्छा लगा  हँसना,…

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं
|

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं, अच्छा…

टिप्पणियाँ

Mahesh Pushpad 2019/05/31 02:24 AM

Thanks to all of you, kabhi kabhi likh deta hun Controll nhi hota.

Saim 2019/05/19 02:51 PM

Dil se nikli kavita

Rohit Yadav 2019/05/19 04:56 AM

अति सुंदर महेश जी

Vivek 2019/05/19 03:57 AM

It's awesome sir,bhaut mast hai.

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

नज़्म

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं