अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

स्वतंत्रता की छटपटाहट

मैं...
महाभारत के पात्रों की तरह
भी नहीं जीना चाहाता
ना तो बापू को बन्दरों जैसा
और नहीं ...
आज के यू.एन.ओ के मैंम्बरों की तरह।


मैं...
भीष्म पितामह की तरह
उचित-अनुचित को जानते हुए भी
अर्थ-अनर्थ समझते हुए भी
मौनता को ओढ़कर
प्रतिबद्ध होकर खूँटे से बँधकर
आँखें मूँदे सब सहता रहूँ ।
बैठे बैठे अपनी विविशता का
इज़हार करता रहूँ ।


मैं ...
गाँधारी की तरह भी नहीं जीना चाहता
आँखें होते हुए भी
आँखों पे पट्टी बाँधकर, अंधापन ओढ़ लूँ
एक समूचा पूरा युग, दूसरे के नाम कर दूँ


मैं...
बापू के बंदरों की तरह
आँख, कान, मुँह बंद कर
अहिंसा जैसे मंत्र के कवच को पहन लूँ
अपराध हो ना हो, चाँटा खाने को
एक गाल के बाद दूसरा आगे करलूँ
मेरे भी हाथ है तो फिर .. मैं क्यों चुप रहूँ।


मैं
यू.एन.ओ के मैंम्बरों की तरह भी नहीं जिऊँगा
जो कान खोले, सिर झुकाये
किसी की आवाज़ का इन्तज़ार करते हैं कि
बिना कुछ देखे, बिना कुछ कहे
हाथ उठाओ, हाथ गिराओ और हाँ में हाँ मिलाओ ।
ये मुझ से नहीं होगा
क्योंकि मुझ में सोचने की शक्ति है ।


मैं ...
देखना चाहता हूँ
तुम्हारी दूरदर्शिता
तुम्हारे इर्द-र्गिद जुड़े उन चाटुकारों को
जो तुम्हारे अंधेपन और उससे जुड़ी
त्रासदी का लाभ उठाते हैं।


मेरी खुली आँख, ज़ुबान और हाथ
इस बात की गवाह हैं कि
आदमी स्वतंत्र पैदा हुआ था
स्वतंत्रता उसका जन्म सिद्ध अधिकार
था और है.....
उस युग में भी और इस युग में भी ।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

प्रहसन

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं