अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

वेदना

वेदना मन की मैं 
तुमसे कहती रही
उसको सुन सको 
तुम्हें इतनी फ़ुरसत नहीं
मौन को तोड़ के
कुछ कहो तो सही
घावों में लगा दे मरहम 
जो वो बात वो बात 
तुम में है ही नहीं...।


बात मेरी तुमने 
हँसियों में छोड़ दी
चलते चलते उसमें 
एक और बात जोड़ दी
जोड़ तोड़ छोड़ की 
भूमिकाओं में
तुम्हारे संग चलते चलते 
पीछे रह गई
पीछे मुड़के देखा तो साथ 
साया भी नहीं .. घावों...।


तुमने जो भरी आह 
सुनके मैं तो डर गई
तुमको इतनी भी 
खबर नहीं कि मैं
मैं टूटते टूटते टूट गई
मैं तो अपनी सीमाओं में 
बंध के रह गई
तुम किसी सीमा को 
लाँघ के आ सको
तुम में इतना 
हौसला भी नहीं.. घावों...।


किश्तों में बँट के 
रह गई निगोड़ी ज़िन्दगी
कगार की आग में 
झुलस के रह गई बंदगी
अरमान पिस गये 
सिलवटों के बीच
सरेआम हो गई 
निलाम आज सादगी
सच्च तो दब के 
रह गया झूठ के तले
सच को सुन सको तुम
तुम में इतना 
हौसला भी नहीं.. घावों..॥


बेमानी हो गये 
हैं रिश्ते अब
रिश्तों में दरारें आ गई
जिन राहों पे चले थे हम
उनमें मोड़ आ गये थे कई
बिखर गये वो टूटकर 
काँच की तरह
सोचती हूँ वो टूटे 
तो टूटे क्यों बेवजह
बैठकर सोचो तो 
प्रश्नों की कमी नहीं.. घावों...।


यूँ तो मैंने अपनी ओर से 
शुरूआत की कई
देखिये नसीब अपना 
ज़िन्दगी फँस के रह गई
थोड़ी मैं चली थी 
थोड़ा तुम चलते सही
बीच के फ़ासले 
सिमट के आते वहीं
अनजान तुम बने रहे 
हाल मेरा वही
बढ़ते गये फ़ासले 
धुँध छाती गई
जोड़ दे जो 
हम तुम को वो बात
वो बात अब तो 
दीखती नहीं .. घावों..।
 

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

हास्य-व्यंग्य कविता

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

प्रहसन

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं