अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

वीरत्व का सम्मान

छोड़ कर मधुर मीठे से उद्गारों को 
त्याग कर ठंडी शीतल बयारों को 
आओ, आज गरम लू का सत्कार करें 
फूलों से नहीं काँटों से शृंगार करें।

 

भूलकर कोमल सौन्दर्य के गानों को 
प्रणाम करें ओज व शौर्य के दीवानों को 
सुख शैया त्याग कर्म का आह्वान करें 
विश्रांति का नहीं पौरुष का सम्मान करें।

 

सम्मान करें, जीवन की इस सच्चाई का 
अकेले ही जलती हुई एक दियासलाई का
नमन, निर्भीक बहती हुई एक कश्ती का 
और साहस की उन्मुक्त अभिव्यक्ति का।

 

बिना सींचे उगते ऐसे ही नवपल्लव नहीं 
बिना संघर्ष किए कोई विजय संभव नहीं 
अपनी ही शक्ति से अपना उत्थान करें 
दुर्बलता का नहीं, पराक्रम का सम्मान करें।

 

बाधाओं से साक्षात्कार या जीवन संग्राम हो 
समक्ष उपस्थित चाहे विघ्न ही तमाम हो 
क्षण भर को भी जो वीर थे घबराए नहीं 
नमन उन्हें मस्तक जिन्होंने झुकाये नहीं।

 

स्वागत करें, कष्टों के सारे प्रहारों का 
उत्कर्ष हो सकता नहीं, भय के मारों का 
रिसते हुए घावों पर भी चलो शान करें 
सुख का नहीं, पीड़ाओं का सम्मान करें।

 

चलते हैं जो हथेली पर अपनी प्राण लेकर 
हृदय खंड में वीरत्व का वरदान लेकर
नमन करें जिन्हें बाधाओं की परवाह नहीं 
धूप नहीं अखरती व छाँव की चाह नहीं।

आराम से अधिक संघर्ष जिन्हें प्यारे हैं 
चुभते नहीं जिन्हें पथ के अनियारे हैं
बाधाओं से अधिक संकल्प का ध्यान करें 
भय का नहीं चलो वीरत्व का सम्मान करें।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

लघुकथा

कहानी

किशोर साहित्य कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं