अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

बहुत बड़ा गाँव है मेरा

‘बहुत बड़ा गाँव है मेरा।’
कहते ही गर्दन ऊँची हो जाती है मेरी
मेरे बचपन में भी बड़ा था
अब भी बड़ा है
पर अब
पत्थर, मिट्टी और लकड़ी से बने घर
सीमेंट के हो गए हैं।
 
नहीं बढ़ी घरों की संख्या
पर अब भी सबसे बड़ा गाँव है मेरा।
 
भूरे-भूरे घर रंग-बिरंगे हो गए
हर घर की छत पर अब डिश लगी है।
पंदेरे पर अब बहू-बेटियों की ठिठोली
नहीं सुनाई देती।
गाँव में शांत सभ्य लोगों की संख्या
बढ़ गई है।
नहीं बढ़ी घरों की संख्या
पर अब भी बड़ा गाँव है मेरा।
 
अब गाँव में रिश्ते तय होने की खबर
किसी को नहीं लगती।
शादी का न्यौता ही मिलता है।
पोस्टमैन की राह अब कोई नहीं देखता।
घर-घर में सबके पास मोबाइल है।
 
क्योंकि अब बड़ा होने के साथ ही
धनी गाँव है मेरा।
गाँव तो बड़ा है
पर कम हो गई है इसकी आबादी।
 
बूढ़े ज़्यादा हैं इस आबादी में।
जवानों का कहीं नामों-निशान नहीं
जो इक्का-दुक्का है किस्मत के सताए हैं।
पर हाँ छुट्टियों में गाँव चहकता है।
हर आँगन, हर पेंदेरे पर रौनक लौट आती है।
पर वे टूरिस्ट कुछ दिन बिताकर
लौट आते हैं अपने-अपने ठिकानों पर
लोगों से यह कहने कि
बहुत बड़ा गाँव है मेरा।
 
(पंदेरा-जहाँ पानी उपलब्ध हो)

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक समीक्षा

सिनेमा और साहित्य

साहित्यिक आलेख

कविता

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं