अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

छब्बीस जनवरी नया रंग लाई है

 उत्तर में हिमालय पर हेमंत में जब जमती है बर्फ,
चहुँ ओर शीत-लहर और कोहरे की धुंध छाती है,
दिन होता है छोटा और बढ़ती रात्रि की लम्बाई है,
प्रत्येक वर्ष भारत में छब्बीस जनवरी तब आती है।

फिर भी हर वर्ष निकलती है बच्चों की प्रभातफेरी,
सजती हैं झाँकियाँ, जन-गन-मन की धुन छाती है,
हर कोने में होतीं हैं सभायें, हर गली जगमगाती है,
उल्लास से भरत हैं हृदय, जब छब्बीस जनवरी आती है।

बीसवीं सदी मध्य विश्व के अनेक देश थे स्वतंत्र हुए,
दुर्भाग्यवश उनमें अधिकतर धर्मांधता में डूब गये,
आज उन देशों में बन गया शत्रु भाई का भाई है,
वे स्वयं भी त्रस्त हैं और विश्व की शांति गँवाई है।

परंतु भारत के संविधान ने सबको समानता दी,
हर वर्ण, धर्म, लिंग, प्रांत को बराबर मान्यता दी,
मजहब की जगह वैज्ञानिक सोच को प्रधानता दी,
इसीलिये आज यह उत्साह है, प्रगति की लुनाई है।

और अब हमको लगता है कि कहीं कुछ नवीन है,
आज हमारा देश प्रौद्योगिकी और विज्ञान में प्रवीन है,
अब मात्र आशा ही नहीं, वरन्‌ विश्वास की गहराई है,
दो हजार आठ की छब्बीस जनवरी नया रंग लाई है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

नज़्म

सामाजिक आलेख

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी

कविता

कहानी

बाल साहित्य कहानी

व्यक्ति चित्र

पुस्तक समीक्षा

आप-बीती

हास्य-व्यंग्य कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं