अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मेरे शब्द

मेरे शब्द न जाने कहाँ खो गए
रात की निस्तब्धता में
भीड़ के कोलाहल में,
भाव तुम तो मेरे थे –
तुम क्यों पराये हो गए?


अब तो चीत्कार भी
दीवार से टकरा कर लौटती नहीं,
किसी की भी कोई पुकार,
मुझे खोजती नहीं,
एक अनजाना सा शून्य है हर दिशा में
ऐसे पराये देश में – 
तुम क्यों पराये हो गए?

 

बोल अधरों पर अटक गए
भाव मेरे भटक गए
क्यों मेरे अर्थ कोई समझता नहीं है
अर्थहीन – मैं तो पहले से ही था
तुम भी क्यों अर्थहीन हो गए?


अब क्यों नहीं है तुमसे कोई आस मुझे
क्यों होता है वसन्त में
पतझड़ का आभास मुझे
क्यों अब रजनीगन्धा महकती नहीं है
क्यों अब कोई बुलबुल चहकती नहीं है
एक अजनबी सा 
गम्भीर सन्नाटा है हर तरफ़
इस अनजान देश में मुझे छोड़
तुम कहाँ खो गए?


आँसुओं से भीगा है बदन
मन पर छायी हुई एक उदासी है
क्यों मेरी आत्मा शब्दों की प्यासी है
उनकी पीठ पर न जाने कितनी
अपनी कुंठाएँ ढो चुका हूँ मैं
हँसी तो कब की भूल चुका था
कितने सागर रो चुका हूँ मैं
खो के तुम्हें बस
एक बुत सा बनकर रह गया मैं
मित्र आए... देखा.. 
और आ के रो गए

 

कुछ स्वरों का ही अस्तित्व मेरा था
कुछ भावों का ही मन में डेरा था
बनजारे से थे मेरे विचार –
कहाँ रुके कहीं वो देर तक
आज उठाया वितान और –
कहीं और के हो गए!

 

अब अपने को ही
अजनबी सा पाता हूँ स्वयं से
“सुमन” तुम क्यों अपने से ही
पराये हो गए ?
मेरे शब्द न जाने कहाँ खो गए?

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी

पुस्तक चर्चा

कविता

किशोर साहित्य कविता

सम्पादकीय

पुस्तक समीक्षा

विडियो

ऑडियो

उपलब्ध नहीं