अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

ये समय की कैसी आहट है! 

ये समय की कैसी आहट है,
हर ओर बस घबराहट है।
 
हवा में ज़हर का कोई क़तरा है,
साँस लेने मे भी बहुत ख़तरा है।
 
हर तरफ़ इक अजीब सी ख़ामोशी है ,
चुप हैं सब और थोड़ी सरगोशी है।
 
लोग हर उम्र के रोज़ मर रहे,
जो ज़िंदा हैं ख़ौफ़ में हैं और डर रहे।
 
डॉक्टर जो भगवान बन लड़े हैं,
वो भी हाथ जोड़े असहाय से खड़े हैं।
 
अस्पतालों में जगह नहीं लंबी क़तार है,
सड़कों पे दम तोड़ रहे लोग बस हाहाकार है।
 
दवा जो जीवन देती थी अब साथ छोड़ चली,
ज़िंदगी ज़िंदगी से जैसे मुँह मोड़ चली।
 
मानवता हर रोज़ हार रही है,
रिश्ते नाते सबको मार रही है ।
 
किसी अपने का फोन जो देर रात बज उठता है,
दिल बैठ जाता है मन सिहर उठता है।
 
जाने कितने ख़ूबसूरत लोग नहीं रहे,
जो रह गये उन्होंने भी कितने दुख सहे।
 
अब भी मृत्यु का ये खेल नहीं रुक रहा,
काल का मस्तक तनिक भी नहीं झुक रहा।
 
श्मशानों मे चिताएँ जल रहीं धुँआ उठ रहा,
कोई मय्यत की दुआ पढ़ रहा, कहीं जनाज़ा उठ रहा।
 
दुनिया बनाने वाले अब तेरा ही सहारा है,
प्रयास सबने बहुत किया पर हर कोई हारा है।
 
भूल जो हुई हो हमसे अब माफ़ करो,
हवा में जो गंध फैली उसको अब साफ़ करो।
 
काल को दो आदेश की अब रुक जाए,
जीवन के आगे अब मृत्यु झुक जाए।
 
बहुत लंबी रात रही अँधेरा अब दूर करो,
सूरज की नव किरणों से तम का अहं अब चूर करो।
 
थम गयी जो सरिता वापस अपनी लहरों को उबारे,
साफ़ कर अपने सफ़ीने माँझी भी उठा सकें पतवारें।
 
सहम गयी जो ज़िंदगी वापस अपने पंख पसारे,
जीत जाएँ सबके हौसले और दुख सबके अब हारें।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

528 हर्ट्ज़
|

सुना है संगीत की है एक तरंग दैर्ध्य ऐसी…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं