अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

युद्ध में औरत

(कुछ न कुछ टकराएगा ज़रूर)
प्रेषक : रेखा सेठी

 

मैं जहाँ जब भी जाऊँगी
औरत की देह में रहूँगी

 

समझने लगी थी कि
अब मेरी उम्र मेरा कवच है
लेकिन अखबारों ने
बताया
कि औरत की उम्र सिर्फ़ उसकी देह होती है
वह गर्भवती हो, बच्ची, अधेड़ या बूढ़ी
इस्तेमाल की चीज़ रहती है।

 

जिस देह को औरत ने सबसे फ़ालतू मान लिया है
वही उसका सबसे बड़ा
बार्टर जिन्स है
इसी से शायद वह थोड़ी देर को
अपने सगों के ज़िन्दा पल खरीद ले!

 

जिसका उत्सव कभी मनाया था उसने
उसका सोग़ मनाने लायक़
घर भी शरीर नहीं रहा
उसके सारे बाशिन्दे
कोमा में पड़े हैं –
दिल, दिमाग़, सोच और संवेदना।

 

इसे उतारकर नहीं रख सकती वह
साड़ी या बुर्क़े या लबादे की तरह
और न धोकर उजाल सकती है
धूप में सुखा कर
खाल का ताना और स्नायु का बाना
उधेड़ कर अलग कैसे कर दे?
वह सिर्फ़ एक गन्दे चिथड़े की तरह
इसे लपेटे रख सकती है
जिसमें कभी भी रंगीनी
झलक सकती है
किसी भी आँख को।

 

उसका मरियम और दुर्गापन
जब जाग जाता है
कुछ देर को आँख से लपट उठती है
आततायी चिनगारियों के बीच
खो जाती है लपट
और भीड़ के सामने
अकेली पड़ जाती है उसकी साख।

 

मैं शर्तिया कह सकती हूँ
ऐसे मौकों पर
वह न औरत बनना चाहती है
न मर्द
कुछ और ही –
जिसे हम सही संज्ञा के अभाव में
इन्सान कह सकते हैं।

 

तब बेहद अविश्वासी मेरे मन में
एक विश्वास पनपता है
शाप का –
हर सतायी हुई, यानी हर औरत का शाप
ज़हर बन कर बरसे एसिड वर्षा-सा
तथाकथित भले-बुरों सब पर एक-सा
और उस दिन
मैं देह के उत्सव में नाचूँ

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं