अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

अंतिम इच्छा

तुम्हारे प्रेम से ऊपज कर 
मैं अनेक रिश्तों की खरपतवार नहीं बनना चाहता
इसलिए उग रहा हूँ
भविष्य की ओर
मेरे हृदय के पायदानों में अटकी धूल का
प्रत्येक कण गवाह है, तुम्हारे आने-जाने का
और इन स्मृतियों में जब-जब विवेक आता है
मैं अचानक चौंक पड़ता हूँ
जैसे मद्धम रोशनी के एकदम तेज़ होते ही
ताज़ा शिशु की अधमुँदी आँखें चौंक पड़ें
पिघलती साँसों के पर्दों के पीछे सदा मौजूद है
यौवन का घना जंगल
हाँ तहक़ीक़ात इस बात की होती है
कि आज का तथाकथित प्रेम है तो
उसमें मौजूद प्राणी कितने हैं


अपने बचपन के दिनों में 
जब बाल्टी के साथ मैं कुएँ में गिरता था
तब पानी के अक्स में तैरती कई तस्वीरें देखता था
और महसूस करता था
बहुत सारे शीर्ष प्रेम जागरण
जिन हाथों ने इस जलीय स्पर्श की  
बादशाहत को उठाया था
वे अपने जीवन के उस पड़ाव में पहुँच चुके हैं
जहाँ पैदा होने वाला हरेक भाव 
क़ाफ़िले को केवल एक दिशा की तरफ़ धक्का देता है
वास्तविक घोषणा के उसूल 
अगर गुनाह नहीं हुए हैं
तो सत्य आज भी आईना बना रहेगा
और उसके अंदर तैरती परछाईयों के कई आयोजन
अब भी जानते होंगे
कि यह प्रेम रूपी झरना आख़िर फूटता कहाँ से है
यह ओस की बूँदों का प्रथम सौभाग्य छूटता कहाँ से है


मेरे अंदर उमड़ते भावनाओं के कई इंक़लाब
जब यह पूछने आते हैं
कि तुम कविता लिखते क्यूँ हो
तो उनसे हर बार यही सवाल करता हूँ
कभी ये भी तो पूछो
मैं कविता पढ़ता क्यूँ हूँ
सुनो, अभी इकट्ठा मत करना अहाते के बाहर टपके
उस अज्ञात पसीने को
क्योंकि एक अरसे बाद वहाँ ज़रूर कोई आएगा 
उन विचलित उदास बूँदों में पड़ी
तुम्हारी अंतिम इच्छा सूँघने।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं