अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

खिड़की 

मेरे ऑफ़िस की खिड़की से 
नज़र आता है इक दरिया 
शहर के दरमियाँ बहता हुआ 
और दूर तक फैली हुई इन बस्तियों को 
बाँटता भी जोड़ता भी

 

मैं जब खिड़की से बाहर देखता हूँ 
सोचता हूँ 
ये दरिया तब भी था जब शहर न था 
ये दाएम1 है मगर ये वक़्त की रफ़्तार भी है 
अगर सोचो ये दरिया तो वही है 
मगर देखो तो मंज़र दूसरा है 

 

मैं जब खिड़की से बाहर देखता हूँ 
कोई तामीर होती बादलों को छू रही 
ऊँची इमारत देखता हूँ 
मैं दरिया की बगल में दूर तक जाती हुई 
लम्बी सड़क को देखता हूँ 
मैं मोटर गाड़ियों की इक मुसलसल 
भागम भाग देखता हूँ

 

मेरे ऑफ़िस के अंदर वक़्त लेकिन थम गया है 
हर इक दिन बीते दिन जैसा 
जो कल था आज भी है 
कल भी होगा 
बे-मसरफ़2 खोखले ख़ाली दिनों को 
किसी मसरुफ़ियत से भरना होगा 
मसाइल3 कल जो सुलझाये थे 
वापिस लौट आएँगे
नए चेहरे लगा कर लोग 
फिर से आज़माएँगे

 

मेरे ऑफ़िस के अंदर वक़्त जैसे थम गया है 
मगर ऑफ़िस का फ़र्नीचर 
पुराना हो रहा है धीरे धीरे 

  1.  दाएम = शाश्वत
  2.  बे-मसरफ़ = बेकार 
  3.  मसाइल = समस्याएँ

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

1984 का पंजाब
|

शाम ढले अक्सर ज़ुल्म के साये को छत से उतरते…

 हम उठे तो जग उठा
|

हम उठे तो जग उठा, सो गए तो रात है, लगता…

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं
|

अच्छा है तुम चाँद सितारों में नहीं, अच्छा…

अब हमने हैं खोजी नयी ये वफ़ायें
|

अब हमने हैं खोजी  नयी ये वफ़ायें माँगनी…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

ग़ज़ल

कहानी

नज़्म

कविता

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं