अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका कविता-सेदोका महाकाव्य चम्पू-काव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक चिन्तन शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

परछाईं

छोटा-सा बबलू सब का दुलारा,
ग़ुस्से में था चाँद सा चेहरा  प्यारा!
 
कभी आगे कभी पीछे से आती है
माँ यह परछाईं मुझे बड़ा सताती है।
 
मैं उठता तो उठती, बैठूँ तो बैठ जाती है
मेरे साथ मेरा हर काम दोहराती है।
 
तुम  कहती हो यह परछाईं सिर्फ़ मेरी है,
हैं नहीं क्यूँ कोई शक्ल इसकी जैसे मेरी है?
 
माँ क्या यह जानती है कोई जादू मंतर 
छोटी बनती कभी बड़ी जैसे जाने कोई जंतर?
 
मुस्कान माँ की देखकर ग़ुस्से में बोला
बड़ी बुरी है माँ, मैं परेशान तू मुस्काती है।
 
रूठा हूँ तुमसे, लो मैं चला बाबा के पास, 
उनसे पूछूँगा अब अपने सारे सवाल ख़ास।
 
बाबा को काम से फ़ुर्सत ना मिल पाएगी 
वहाँ अस्पताल तेरी सवारी कैसे जाएगी?
 
ठिठक गया पलभर सुनकर माँ की बातें
सोचने लगा कुछ छोटा-सा दिमाग़ खुजाते।
 
बहुत सोचकर फिर नन्हा बबलू बोला
छोटे-से दिमाग़ का बड़ा पिटारा खोला।
 
मैं भी परछाईं जैसा जादू सीख जाऊँगा
आबरा-का-डाबरा कर बड़ा बन जाऊँगा।
 
बाबा संग हाथ मिला कोरोना से लड़ जाऊँगा
लौट ना पाए फिर कभी इतनी दूर भगाऊँगा।
 
सब डॉक्टर फिर वापस अपने घर जाएँगे
बाबा संग फिर हम मिलकर मौज़ मनाएँगे।
 
आबरा-का-डाबरा कर फिर छोटा बन जाऊँगा।
राजा बेटा बनकर माँ तब तुमसे लाड़ लड़ाऊँगा ।
 
सुनकर बातें बबलू की माँ आँसू में मुस्काती है
गले लगाकर राजा बेटे की  बलाइयाँ लेती है।

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

6 बाल गीत
|

१ गुड़िया रानी, गुड़िया रानी,  तू क्यों…

 चन्दा मामा
|

सुन्दर सा है चन्दा मामा। सब बच्चों का प्यारा…

 हिमपात
|

ऊँचे पर्वत पर हम आए। मन में हैं ख़ुशियाँ…

अंगद जैसा
|

अ आ इ ई पर कविता अ अनार का बोला था। आम पेड़…

टिप्पणियाँ

Arijita Dasgupta 2021/05/26 02:35 PM

Sana ji aap bahat hi achha likhti hain. Aapki lekhan ki jitni bhi prasansha ki jae waha kam hi h.

Arun sharma 2021/05/26 10:14 AM

सुंदर बाल सुलभ रचना!

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

बाल साहित्य कविता

कहानी

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं