अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

पुष्पा मेहरा - कोरोना से सम्बंधित दोहे


भौतिकता की होड़ में,  होने  लगे  प्रयोग।
नव प्रयोग की होड़ में,  बना मौत का योग॥ 
२.
लैब लाँघ चहुँ दिश भगा,  यम समान लो जान।  
कोरोना  हथियार   ये,  है जैविक  लो  मान॥
३.
कोरोना की  थाप  सुन,  काँप रहा हर  देश। 
आओ मिल उससे लड़ें,  रखें स्वच्छ परिवेश॥
४.
कोरोना  के  क़हर  से,   मिलें नहीं अब हाथ। 
नमस्कार कर देश सभी,   निभा  रहे  हैं साथ॥  
५.
कोरोना के  रोग  का,  है  उपचार बचाव।
दूर –दूर  रहना  खड़े,   है यह एक सुझाव॥  
६.
घड़ियाँ मुश्किल हैं बड़ी,  रहें  घरों   में  बंद।
हार करोना  को  मिले,  मिले न इसको संद॥ 
७.     
करें न मन की चाकरी,   मानें  बस  आदेश।
पालन नियमों  का करे,   प्यारा  भारत देश॥ 
८. 
कोरोना के  वार  ने,   छीना जग का चैन।
दूर–दूर कटते  फिरें,   मुख पट्टी में  बैन॥
९.
भाग–दौड़ की ज़िन्दगी,  कुछ तो मिली नजात।
घर बैठ के  बाँट  रहे,  सुख - दुख बातों बात॥

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

अर्थ छिपा ज्यूँ छन्द
|

बादल में बिजुरी छिपी, अर्थ छिपा ज्यूँ छन्द।…

अख़बार
|

सुबह सुबह हर रोज़ की,  आता है अख़बार।…

अफ़वाहों के पैर में
|

सावधान रहिये सदा, जब हों साधन हीन। जाने…

ऋषभदेव शर्मा - 1 दोहे : 15 अगस्त
|

1. कटी-फटी आज़ादियाँ, नुचे-खुचे अधिकार। …

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

दोहे

कविता - हाइकु

कविता - क्षणिका

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं