अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

आज जब गूँगा हृदय है, मैं सुरों को साध कर भी क्या करूँगा?

आज जब गूँगा हृदय है, मैं सुरों को साध कर भी क्या करूँगा?

 

गीत के अंकुर दबे हैं जिन्दगी के पत्थरों में,
अब नहीं खिलती द्रुमों में वे नई कलियाँ रुपहरीं।
साँझ में पीपल मगन हो अब नहीं है गुनगुनाता,
और बरगद के तले थक, अब नहीं सोती दुपहरी।
पत्थरों में जड़ गईं हैं जिन गुलाबों की जड़ें अब,
अश्रुकण से भी उन्हें आबाद कर मैं क्या करूँगा?
आज जब गूँगा हृदय है, मैं सुरों को साध कर भी क्या करूँगा?

 

डाल पीपल की जहाँ थे घोसले हमने बनाये।
मुक्त वह आकाश जिसमें पंख हमने फड़फड़ाये।
डर गये हैं हम परन्तु वे प्रतीक्षा में हमारी,
हैं अभी भी गुनगुनाते, है पलक अब भी बिछाये।
कैद हैं जो जिन्दगी की जालियों में मुद्दतों से,
परकटी उन पाखियों को, मै भला आजाद कर भी क्या करूँगा?
आज जब गूँगा हृदय है, मैं सुरों को साध कर भी क्या करूँगा?

 

थरथराती है जमीं और डोलता ये आसमाँ है,
हैं समन्दर ने डुबोये बाँध सारे साहिलों के।
स्वप्न सारे ढ़ह गये हैं, नीड़ अपने बह गये हैं,
खुद खुदा ने तोड़ डाले कलश अपने मन्दिरों के।
जब खुदा खुद ही बना सैयाद हो तो,
तुम बताओ, मैं भला फरियाद कर भी क्या करूँगा?
आज जब गूँगा हृदय है, मैं सुरों को साध कर भी क्या करूँगा?

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

स्मृति लेख

कविता

कहानी

ललित निबन्ध

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं