अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई क़ता

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा वृत्तांत डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य लघुकथा बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट सम्पादकीय प्रतिक्रिया

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

अर्जुन तांडव – 001

अर्जुन तांडव  - 001

बोले मधुसूदन, सुनो पार्थ!
कर्तव्य तुम्हारा करे चलो,
जो मिटना है मिट जाने दो,
भावी स्वप्नों को गढ़े चलो।
 
कहते कहते मधुसूदन ने
विश्वरूप जब दिखलाया,
मोह ग्लानि तब वाष्प बने,
कर्तव्य-बोध को सिखलाया।
 
दृश्य अलौकिक अद्भुत लीला
सूर्य कोटि हैं चमक रहे,
धन्य है संजय धन्य धनंजय,
मुखमंडल हैं दमक रहे। 
 
हृद में चुभते सब शूल मिटे,
दर्शन पा अर्जुन धन्य हुआ,
नतमस्तक हरि के चरणों में
अर्पित हो भक्त अनन्य हुआ।
 
कांधे से पकड़ परन्तप को
यशोदा के लाला बोल रहे,
जीवन मृत्यु आत्मा शरीर
सारे रहस्य को खोल रहे।
 
मैं ही कर्ता हूँ सृष्टि का,
निष्ठा हूँ, धर्म, परायण हूँ,
दोषमुक्त तुम धर्मयुद्ध में,
लीलाधर मैं नारायण हूँ।
 
महाबाहो! ये धरा धर्म की,
इसके रक्षण बढ़े चलो;
भुजा तुम्हारी फड़क रही,
अरि की छाती पर चढ़े चलो।
 
संवाद कृष्ण का पूर्ण हुआ,
अर्जुन स्यन्दन पर खड़ा हुआ,
मुरझाया कुम्हलाया पौधा,
क्षण भर में जैसे बड़ा हुआ।
 
गांडीव की घोर गर्जना से,
वसुधा भी जैसे काँप रही,
शोकमुक्त अब अर्जुन है,
होनी अनहोनी भाँप रही।
 
उमड़ उठा है समूह अपार,
गूँज गई दुंदुभि उठे भाल,
मानों जग ही मिट जाएगा,
वीरों के बजते क़दम ताल।

— क्रमशः

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

कविता - क्षणिका

नज़्म

खण्डकाव्य

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं