अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता गीत-नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई कतआ

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

मंदिर के बंद द्वार

मंदिर के द्वार पर 
आई वह 
झुर्रियों से भरे चेहरे थे 
बैठ गई  इंतज़ार में 
दयालुओं कृपालुओं के 
जो करें रहम और 
दे दे चंद सिक्के 
या दानों के कुछ कण 
पेट में डालने को 
 
देखा मैंने दूर से 
हाथों से नापती भूख की गहराई 
और ताकती मंदिर के बंद द्वार । 
खोली पोटली उसने 
निकाले चंद टुकड़े 
प्रयासरत वह कि जोड़कर 
दे पाए आकर इडली का 
 
सोच रही थी वह शायद 
कि खुले हैं सबकुछ अब 
दवा के साथ दारू भी 
काम कहाँ रुका है किसी का 
पर जाने क्यों अब तक 
नहीं खुले ये द्वार प्रभु के 
 
देखा मैंने उसे 
और उसने मुझे 
सड़क के उस छोर से 
खींच लाया पास 
चंद पैसों का लालच 
होंठ बंद थे 
पर आँखें कर गई बयाँ 
कथा बेबसी की 
 
पकड़ा दिया मैंने भी 
एक बड़ा सा टुकड़ा काग़ज़ का
और कर दिया एहसान 
उसकी बदहाली पर 
 
भाव विभोर सी वह 
देखती रही पल भर 
पलकें छलकीं कृतज्ञता में 
कहने लगी कहानियाँ पुत्र और उस पुत्री की भी 
जिन्होंने दी थी वज़ह 
बेरोज़गारी की 
निकलते वक़्त घर से 
भारी पड़ती थी 
दो जून की रोटी भी अब उसकी 
 
गवारा नहीं उसे भी 
बनना बोझ किसी पर 
ईश्वर रक्षक हैं सबके 
करेंगे रक्षा उसकी भी 
त्याग कर सब कुछ 
बनाया आसरा इस द्वार को 
जो बंद है आज फिर से 
 
लौटाते हुए पैसे कहने लगी थी वह 
इतना नहीं बेटा
छुट्टे काफ़ी होंगे भूख पाटने को 
देखी थी मैंने 
आत्मसम्मान की चमक 
उन झुर्रियों में 
मुस्कुराए थे फटे होंठ उसके 
आँखों में गुज़ारिश थी 
कल फिर आने की 
छुट्टे पैसे के साथ। 
 
निहारती रही मैं उसे 
जो पलटी थी अभी अभी 
नहीं पढ़ पाई 
उसके फटे होंठ 
और नीरस आँखें 
तलाशती मुट्ठी भर दाने 
मंदिर के द्वार पर 
 
सोच में हूँ मैं अब भी 
क्या वह वही थी जो बंद थी
उन पटों के पीछे 
जिसे पूजने आई थी मैं स्वयं भी?

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता

स्मृति लेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं