अन्तरजाल पर
साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली

काव्य साहित्य

कविता नवगीत गीतिका दोहे कविता - मुक्तक कविता - क्षणिका कवित-माहिया लोक गीत कविता - हाइकु कविता-तांका कविता-चोका महाकाव्य खण्डकाव्य

शायरी

ग़ज़ल नज़्म रुबाई

कथा-साहित्य

कहानी लघुकथा सांस्कृतिक कथा लोक कथा उपन्यास

हास्य/व्यंग्य

हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी हास्य व्यंग्य कविता

अनूदित साहित्य

अनूदित कविता अनूदित कहानी अनूदित लघुकथा अनूदित लोक कथा अनूदित आलेख

आलेख

साहित्यिक सामाजिक शोध निबन्ध ललित निबन्ध अपनी बात ऐतिहासिक सिनेमा और साहित्य रंगमंच

सम्पादकीय

सम्पादकीय सूची

संस्मरण

आप-बीती स्मृति लेख व्यक्ति चित्र आत्मकथा डायरी बच्चों के मुख से यात्रा संस्मरण रिपोर्ताज

बाल साहित्य

बाल साहित्य कविता बाल साहित्य कहानी बाल साहित्य नाटक बाल साहित्य आलेख किशोर साहित्य कविता किशोर साहित्य कहानी किशोर साहित्य लघुकथा किशोर हास्य व्यंग्य आलेख-कहानी किशोर हास्य व्यंग्य कविता किशोर साहित्य नाटक किशोर साहित्य आलेख

नाट्य-साहित्य

नाटक एकांकी काव्य नाटक प्रहसन

अन्य

रेखाचित्र कार्यक्रम रिपोर्ट

साक्षात्कार

बात-चीत

समीक्षा

पुस्तक समीक्षा पुस्तक चर्चा रचना समीक्षा
कॉपीराइट © साहित्य कुंज. सर्वाधिकार सुरक्षित

प्रवासी वेदना

उड़ती उड़ती सी इक बदली
मोरे अँगना आई
मैंने पूछा मेरे घर से 
क्या संदेशा लाई?

राखी के दिन भैया ने क्या 
मुझको याद किया था?
पंख तेरे संग बाँध किसी ने
थोड़ा प्यार दिया था?
दीवाली की थाली में जब
सब ने दीप जलाये होंगे
मेरे हिस्से के दीपों को
किसने थाम लिया था?

सच बताना प्यारी बहना
क्या तू देख के आई?
उड़ते उड़ते मेरे घर से
क्या संदेशा लाई?

मेरी बगिया के फूलों का
रंग बताना कैसा था?
उन मुसकाती कलियों में
क्या कोई मेरे जैसा था?
मेरे बिन आँगन की तुलसी
थोड़ी तो मुरझाई होगी
हार शृंगार की कोमल बेला
कुछ पल तो कुम्हलाई होगी|

बचपन की उन सखियों को
क्या मेरी याद सताई?
मैंने पूछा मेरे घर में
क्या क्या देख के आई?

आते आते क्या तू बदली
गंगा मैया से मिल आई?
देव नदी का पावन जल क्या
अपने आँचल में भर लाई ?
मन्दिर की घंटी की गूँजें
कानों में रस भरती होंगीं 
चरणामृत की शीतल बूँदें
तन-मन शीतल करती होंगी|

तू तो भागों वाली बदली
सारा पुण्य कमा के आई
उड़ते- उड़ते प्यारी बहना
किस से मिल के आई?

अब की बार उड़ो तो बदली
मुझको भी संग लेना
अपने पंखों की गोदी में 
मुझको भी भर लेना
ममता मूर्त मैया को जब
मेरी याद सतायेगी
देख मुझे तब तेरे संग वो
कितनी खुश हो जायेगी

याद करूँ वो सुख के पल तो
अखियाँ भर-भर आईं
उड़ते उड़ते प्यारी बदली 
क्या तू देख के आई ?

और न कुछ भी माँगूँ तुमसे
बस इतना ही करना
मेरी माँ का आँगन बहना 
खुशियों से तू भरना
सरस स्नेह की मीठी बूँदें
आँगन में बरसाना
मेरी बगिया के फूलों में
प्रेम का रंग बिखराना

जब -जब भी तू लौट के आये
मुझको भूल न जाना
मेरे घर से खुशियों के
संदेश लेते आना।

घड़ी -घड़ी मैं अम्बर देखूँ
कब तू लौट के आई
मेरे घर से प्यारी बदली
क्या संदेशे लाई ?

मेरे घर से प्यारी बदली
क्या संदेशे लाई ?

अन्य संबंधित लेख/रचनाएं

'जो काल्पनिक कहानी नहीं है' की कथा
|

किंतु यह किसी काल्पनिक कहानी की कथा नहीं…

2015
|

अभी कुछ दिनों तक तारीख़ के आख़िर में भूलवश…

2016
|

नये साल की ख़ुशियों में मगन हम सब अंजान हैं…

टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

पुस्तक समीक्षा

कविता

सामाजिक आलेख

विडियो

उपलब्ध नहीं

ऑडियो

उपलब्ध नहीं